Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें…….

जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें…….
उसकी हसरत एक तरफ है सारी दुनिया एक तरफ ,

उसको करीब से देखा और जी भर के देखा ……..
उसकी खामोशी एक तरफ है मेरी गजल एक तरफ !

✍Deepak saral

1 Like · 445 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*Author प्रणय प्रभात*
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
मैंने खुद को बदल के रख डाला
मैंने खुद को बदल के रख डाला
Dr fauzia Naseem shad
अवध से राम जाते हैं,
अवध से राम जाते हैं,
अनूप अम्बर
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
*आइए स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें (घनाक्षरी : सिंह विलोकित
*आइए स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें (घनाक्षरी : सिंह विलोकित
Ravi Prakash
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Sakshi Tripathi
💐अज्ञात के प्रति-31💐
💐अज्ञात के प्रति-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2407.पूर्णिका
2407.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सत्य और सत्ता
सत्य और सत्ता
विजय कुमार अग्रवाल
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
Loading...