Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati

धर्मग्रंथों में कुछ बातें ऐसी लिखी हैं कि जिसे आप अगर सौ बार पढ़ो तो भी समझ में नहीं आने वाली….

जैसे, बाबा तुलसीदास रामचरित मानस/बालकाण्ड में लिखते हैं कि-
“कौतुक देखि पतंग भुलाना।
मास दिवस तेहि जात ना जाना।।”
अर्थात- जब रामजी पैदा हुए तो उनके जन्मोत्सव के समारोह को देखकर सूर्य एक महीने आकाश में ही ठहर गया!

अब सवाल यह है कि अगर सूर्य एक ही जगह रुक गया तो फिर सूर्य डूबा ही नहीं, रात हुई ही नहीं और अगला दिन भी नहीं हुआ…. तो तुलसीदास ने एक महीने की गिनती कैसे की?

पूर्वकाल में लोग आकाश में सूर्य की स्थिति को देखकर ही समय का अंदाजा लगाते थे, और जब सूर्य ही ठहर गया तो तुलसीदास को पता कैसे चला कि एक महीना हो गया! क्या तुलसीदास त्रेतायुग में टाइटन–सोनाटा की घड़ी लगाकर घंटे गिन रहे थे?

अच्छा है कि ये शास्त्र भारतीय ही पढ़ते हैं। अगर विदेशी पढ़ते तो भारतीय भूगोल और तुलसीदास के ज्ञान पर थूक देते!

Language: Hindi
Tag: लेख
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
दोहे - नारी
दोहे - नारी
sushil sarna
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
True is dark
True is dark
Neeraj Agarwal
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
"प्रत्युत्पन्न मति"
*प्रणय प्रभात*
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब तुम खामोश रहती हो....
जब तुम खामोश रहती हो....
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
औरत
औरत
Shweta Soni
ग्रन्थ
ग्रन्थ
Satish Srijan
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
Loading...