Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

जब लोग आपसे खफा होने

जब लोग आपसे खफा होने
लग जाएं,तो आप समझ लेना
की आप सही राह पर हैं ll

━━━━✧❂✧━━━━

27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
नेताम आर सी
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
#आज_का_नारा
#आज_का_नारा
*Author प्रणय प्रभात*
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
gurudeenverma198
घुली अजब सी भांग
घुली अजब सी भांग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
3277.*पूर्णिका*
3277.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
मीना
मीना
Shweta Soni
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...