Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी

जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
नम होगे नयन मेरे ,आंखे भर आयेगी
तुझे दर्द न देगे हम ,सब कुछ सह लेंगे हम
ये रब मेरी अर्ज सुनो,उसको न तू देना गम
जब पास वो आयेगी, थोड़ी सरमाएगी
नम होगे नयन मेरे ,आंखे भर आयेगी
कभी रोने न देगे , कुछ होने न देगे
तुझे दर्द न देंगे कभी,भले को मिटा देगे
तेरे वादे तेरी कसमें,वो दुनिया की रस्में
जब जब तड़पाएगी आंखे भर आयेगी
मैंने गलती अगर की हो ,उसकी तू सजा देना
टुकड़ा दे या अपना ले मुझे कुछ तो दुआ देना
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
नम होगे नयन मेरे ,आंखे भर आयेगी
कृष्णकांत गुर्जर

1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*प्रणय प्रभात*
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता का साया
पिता का साया
Neeraj Agarwal
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
विमला महरिया मौज
हमको गैरों का जब सहारा है।
हमको गैरों का जब सहारा है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
Loading...