Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।

हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
हर मंजिल का कोई एक रास्ता भी नहीं होता।
मोहब्बतें राह में मिलते हैं हजारों रास्ते।
पर हर रास्ता दिलबर के दिल तक ही जाता है।

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Likes · 2 Comments · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*चलो शुरू करते हैं अपनी  नई दूसरी पारी (हिंदी गजल/गीतिका)*
*चलो शुरू करते हैं अपनी नई दूसरी पारी (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
Shashi kala vyas
■मंज़रकशी :--
■मंज़रकशी :--
*Author प्रणय प्रभात*
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
पूर्वार्थ
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मिलेंगे कल जब हम तुम
मिलेंगे कल जब हम तुम
gurudeenverma198
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...