Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2023 · 1 min read

जब तक मन इजाजत देता नहीं

जब तक मन इजाजत देता नहीं
हम किसी को अपना कहते नहीं
जो करे कोई गलती हम उसे जल्दी माफ करते नही
जो कर दिया माफ तो दोबारा दिल में उसे भरते नही

346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
चांदनी रात
चांदनी रात
Mahender Singh
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
■ आज का संकल्प...
■ आज का संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साथी है अब वेदना,
साथी है अब वेदना,
sushil sarna
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
'अशांत' शेखर
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
जिंदगी में ऐसा इंसान का होना बहुत ज़रूरी है,
Mukesh Jeevanand
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
Loading...