Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2016 · 1 min read

जब कभी भी जबां फिसलती है

जब कभी भी जबां फिसलती है
होती अक्सर ,हमारी गलती है
************************
दिखता सच नही है लोगो को
जब भी नफ़रत ये दिल में पलती है
**************************
कपिल कुमार
13/10/2016

Language: Hindi
503 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खामोश रहना ही जिंदगी के
खामोश रहना ही जिंदगी के
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
रामायण से सीखिए,
रामायण से सीखिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"किन्नर"
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिया - वर्षा
कुंडलिया - वर्षा
sushil sarna
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
शेखर सिंह
2969.*पूर्णिका*
2969.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
फूल
फूल
Punam Pande
■दूसरा पहलू■
■दूसरा पहलू■
*प्रणय प्रभात*
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
Ravi Prakash
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यादों से निकला एक पल
यादों से निकला एक पल
Meera Thakur
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*समय*
*समय*
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
Anand Kumar
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
Loading...