Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको

जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
आप उसकी पढ़ेंगे नहीं वो कैसे पढ़ेगा आपको !!
@डॉ लक्ष्मण झा परिमल

369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
Rituraj shivem verma
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
" न जाने क्या है जीवन में "
Chunnu Lal Gupta
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
"डिब्बा बन्द"
Dr. Kishan tandon kranti
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
Mangilal 713
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद  हमेशा रहे।
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद हमेशा रहे।
Vishal babu (vishu)
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
"मुग़ालतों के मुकुट"
*Author प्रणय प्रभात*
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
Loading...