Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में

जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
तब रास्तों को परखना भी बहुत जरुरी होता है

उलझी हुई कुछ डोरियों को कोई सुलझाने लगे
तब उन इरादों का इम्तिहाँ बेहद जरुरी होता है

©®-‘अशांत’ शेखर
18/03/2023

Language: Hindi
538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
बधाई
बधाई
Satish Srijan
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
डोर
डोर
Dr. Mahesh Kumawat
#कविता
#कविता
*प्रणय प्रभात*
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"नेवला की सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
अरशद रसूल बदायूंनी
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
Loading...