Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*

जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)
_________________________
जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना
1)
छोड़ न देना मुझे कहीं, मॅंझधार बीच बहने को
झंझावातों के कठोरतम, भारी दुख सहने को
मुझे मुक्ति का मार्ग सरल निज, हाथों से दिखलाना
2)
सुनता हूॅं यह जीवन का पथ, अंतिम बहुत कड़ा है
श्वास-श्वास पर महाकाल का, पहरा वहॉं खड़ा है
सहज चलाना जीवन-नौका, मद्धिम पार लगाना
3)
मैं क्या जानूॅं पाप-पुण्य क्या, प्रभुजी तुम्हीं सहारा
जो कुछ मेरा कर्म समर्पित, किया तुम्हीं को सारा
अंत समय में भूल न जाना, पतवारों को लाना
4)
मार्ग कंटकाकीर्ण मिलेगा, लेकिन शूल न रखना
मैं शबरी के बेर प्यार के ,जैसा भी हूॅं चखना
महारात्रि भी कट जाएगी, बस प्रभु तुम मुस्काना
जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना
————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
नींदों में जिसको
नींदों में जिसको
Dr fauzia Naseem shad
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
मच्छर
मच्छर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"जुलमी सूरज"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
𑒂𑓀𑒑𑒳𑒩𑒹 𑒣𑒩 𑒪𑒼𑒏 𑒏𑒱𑒕𑒳 𑒑𑒱𑒢𑒪 𑒖𑒰 𑒮𑒏𑒻𑒞 𑒕𑒟𑒱
𑒂𑓀𑒑𑒳𑒩𑒹 𑒣𑒩 𑒪𑒼𑒏 𑒏𑒱𑒕𑒳 𑒑𑒱𑒢𑒪 𑒖𑒰 𑒮𑒏𑒻𑒞 𑒕𑒟𑒱
DrLakshman Jha Parimal
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...