Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

जबसे तुझे जाना है,चाहा है

जबसे तुझे जाना है , चाहा है
तुझे अपना ख़ुदा मैंने माना है

तू न बन बेख़बर मेरी जाँना
बचपन से हूँ मैं तेरा दीवाना
तू साथ है तो नहीं कोई ग़म
चाहत की दरिया में डूब जाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 1

दे जगह जुल्फों की घनेरी छाँव में
ले चल मुझे तू प्रेम के नगर में
ज़िन्दगी हैं जीना तुम्हारे साथ में
तेरे दिल को मंदिर बनाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 2

ढूँढ़ती है निगाहें बस तेरा’चेहरा
सागर से भी गहरा प्यार हमारा
हमसफ़र ज़िन्दगी के हर सफर में
तेरा हाथ थाम सदा चलना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 3

हिरनी जैसी है तेरी आँखे
कोयल सी मधुर तेरी बातें
तू ही ज़िन्दगी की तमन्ना है
तू ही ज़िन्दगी का अफसाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 4

भूल से भी न भूलु मैं तुझे
मैं बसा लू धड़कन में तुझे
न रहो दूर तुम खफा हो के
दर्द जुदाई अब न सहना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 5

Language: Hindi
Tag: गीत
348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
लानत है
लानत है
Shekhar Chandra Mitra
विश्वास
विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
Ram Krishan Rastogi
2630.पूर्णिका
2630.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
पूर्वार्थ
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-487💐
💐प्रेम कौतुक-487💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
■ आज की सलाह....
■ आज की सलाह....
*Author प्रणय प्रभात*
दार्जलिंग का एक गाँव सुकना
दार्जलिंग का एक गाँव सुकना
Satish Srijan
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
औरत और मां
औरत और मां
Surinder blackpen
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
धरा
धरा
Kavita Chouhan
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
जगदीश शर्मा सहज
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
फितरत
फितरत
Mamta Rani
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
अकेला खुदको पाता हूँ.
अकेला खुदको पाता हूँ.
Naushaba Suriya
परिणय प्रनय
परिणय प्रनय
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पल पल बदल रहा है
पल पल बदल रहा है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायरी की तलब
शायरी की तलब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
मगर मासूम बच्चे हैं( मुक्तक )
मगर मासूम बच्चे हैं( मुक्तक )
Ravi Prakash
Loading...