Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2016 · 1 min read

जनम का मौत से नाता

बहुत मज़बूत होता है जनम का मौत से नाता
जरुरी है मिलन इनका समय लिख साथ में आता
न तेरा है न मेरा कुछ जहाँ में जानते हैं सब
न माया मोह पर हमसे न देखो छूट ही पाता

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 256 Views
You may also like:
सियासत की बातें
Dr. Sunita Singh
इतनी उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
क्युकी ..... जिंदगी है
Seema 'Tu hai na'
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
'विश्व जनसंख्या दिवस'
Godambari Negi
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
हेमन्त दा पे दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
""वक्त ""
Ray's Gupta
यह दिल
Anamika Singh
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
*पितृ-वंदना (गीत)*
Ravi Prakash
"भैयादूज"
Dr Meenu Poonia
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
दिया जलता छोड़ दिया
कवि दीपक बवेजा
तेरी डोली से भी बेहतर
gurudeenverma198
हिंदी दोहा विषय- विजय*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
Baby cries.
Taj Mohammad
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
"श्री अनंत चतुर्दशी"
पंकज कुमार कर्ण
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...