Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2021 · 1 min read

जनवादी गीतकार

बादल की
घोर घनक लिए!
सूरज की
तेज लपट लिए!!
ये आ गया
कौन-सा गीतकार!
गांव की
सच्ची रपट लिए!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra

Language: Hindi
368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
धार्मिक असहिष्णुता की बातें वह व्हाट्सप्प पर फैलाने लगा, जात
धार्मिक असहिष्णुता की बातें वह व्हाट्सप्प पर फैलाने लगा, जात
DrLakshman Jha Parimal
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
gurudeenverma198
■ 24 घण्टे चौधराहट।
■ 24 घण्टे चौधराहट।
*प्रणय प्रभात*
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
*सुकृति (बाल कविता)*
*सुकृति (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" पहला खत "
Aarti sirsat
3478🌷 *पूर्णिका* 🌷
3478🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...