Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2022 · 1 min read

जनतंत्र में

जनतंत्र में, जनता का ही राज होता है।
जनता द्वारा ही, सिर पे ताज होता है।।
जनतंत्र में —————————।।

जनतंत्र विरोधी, जब होता है शासक।
बदल देती है तब, जनता वह शासक।।
जब शासक पे, जनता को नाज होता है।
जनता द्वारा, उसके सिर पे ताज होता है।।
जनतंत्र में ————————-।।

सभी शासक आदर करें, जनतंत्र का।
नहीं अपमान करें कभी, जनतंत्र का।।
जब जनादेश से, सारा काज होता है।
तब जनता का ही , सच राज होता है।।
जनतंत्र में —————————–।।

रहे जिंदा जनतंत्र , अपने देश में।
होगा जनता का राज, तब देश में।।
जनतंत्र जनता की, आवाज होता है।
जनतंत्र में जनता का, ताज होता है।।
जनतंत्र में —————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार –
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Suni padi thi , dil ki galiya
Suni padi thi , dil ki galiya
Sakshi Tripathi
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
Loading...