Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

जनक देश है महान

जनक देश है महान
🍀🍀🍀🍀🍀🍀
निज कर्मों पर कर अभिमान
आस्था विश्वास भक्ति शक्ति

धर्म स्नेह प्रेम सद्भाव महान
सत्य अहिंसा का परम ईमान

वसुधैव कुटुंबकम् सेवाधाम
गीतासार गंगासागर भाव तरंग

अद्भूत वेमिशाल ज्ञानी की वाणी
जनक जानकी का निज भू धाम

जय रघुनंदन जय जय सियाराम
प्रेम सुधा बरसाने वाला वीरों को

हरसाने वाला मातृभूमि के जन
जन का प्यारा जनक देश महान

जय जय रघुनंदन जय सियाराम
लीला रास स्वर रूहानी भक्ति नाद

गुंज रहे सरयू यमुना की घाट
अत्याचारी रावण पापी कंश

धाराशायी हुए जहां रचा गया
रामायण महाभारत गीताज्ञान

अयोध्या मथुरा वृंदावन काशी
शिव कैलाश पर्वत बद्री विशाल

यहीं तो है जन जीवन मुक्ति द्वार
जनक जानकी जय जय सियाराम

वसुदेव यशोदा बाबा नन्द का गांव
बरसाना लक्ष्मी राधा रानी का वास

कृष्ण कन्हैया गोपी का निज धाम
राधा रानी जय राधेय जय घनश्याम

वृंदावन की कुंज गलियन में गोपी
खेले होली रंग भरे पिचकारी संग

निधिवन पावन मथुरा तीनो धाम
अद्भूत होली बरसाने मथुरा की

नर नारी राग रागिनी लक्ष्मी रूपा
नारायण मोर मयूरी राधा कान्हा

थिरक पड़ते सकल भू सुरधाम
एकादशी मसानी होली चिता

भस्म रंग बरसे मणिकर्णिका
हरिश्वचंद घाट शिव काशीधाम

संस्कार संस्कृति स्थिर रहेगा
शिव त्रिशूल नोंक सकल धाम

काशी प्रयाग महाप्रलय के काल
जनक देश कण कण रत्न भरा

विविधता में एकता अभिमान
गर्व गर्वीला भारत देश महान

🍀☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️

तारकेश्वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"परिवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ
माँ
meena singh
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
नर नारायण
नर नारायण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...