Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

*जग में होता मान उसी का, पैसा जिसके पास है (हिंदी गजल)*

जग में होता मान उसी का, पैसा जिसके पास है (हिंदी गजल)
_________________________
1)
जग में होता मान उसी का, पैसा जिसके पास है
यों तो रिश्तेदारी सबसे, पैसे वाला खास है
2)
वाह्य जगत में अभिनय करके, पाओगे भटकाव ही
मिलते हैं भगवान उसी को, जिसके भीतर प्यास है
3)
जिसने पाया परम-ब्रह्म को, मधुरिम जीवन धन्य वह
कभी न मिटने वाला उसमें, हर्ष और उल्लास है
4)
दुनिया के राजाओं से मैं, क्यों जाऊॅं धन मॉंगने
मुझे भरोसा राम-नाम पर, राम-नाम की आस है
5)
सिखलाते हनुमान हमें यह, ताकत पर न इतराओ
जग ने पूजा उसे हुआ जो, सियाराम का दास है
6)
ध्यान लगाओ खुद को ढूॅंंढो, मुक्ति मिलेगी देह से
फिर देखोगे भीतर-भीतर, छाने लगा उजास है
————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
जीवन के उलझे तार न सुलझाता कोई,
Priya princess panwar
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जंगल का रिवाज़
जंगल का रिवाज़
Shekhar Chandra Mitra
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3209.*पूर्णिका*
3209.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
💐प्रेम कौतुक-546💐
💐प्रेम कौतुक-546💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
.        ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
. ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
Ram Krishan Rastogi
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...