Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

जग के पिता

ए मुसाफिर,तू किस ओर आँख बन्द कर बढ़ता जा रहा है,
जाना कहाँ था ? अँधेरी खाई में खुद ही डूबता जा रहा है I

कितने अरमानों से जग के पिता ने संसाररूपी जहाँ बनाया,
हमने उस “सुंदर घर” में आग लगाकर अपना घरोंदा बसाया,
बगिया में फूल-२ को बांटकर काँटों से गुलशन को सजाया,
तेरे दिए हुए “प्यार के दो बोलों” को अपना-पराया बताया I

ए मुसाफिर,तू किस ओर आँख बन्द कर बढ़ता जा रहा है,
जाना कहाँ था ? अँधेरी खाई में खुद ही डूबता जा रहा है I

इंसान आया इस जग में,सब कुछ छोड़ कर चला गया,
वो अपने साथ लोगों से मोहब्बत का गुलदस्ता ले गया,
बनाया हुआ उनका सोने का महल धरती पर रह गया,
बन्दे ने इंसान से प्रेम न किया तो हाथ मलते रह गया I

ए मुसाफिर,तू किस ओर आँख बन्द कर बढ़ता जा रहा है,
जाना कहाँ था ? अँधेरी खाई में खुद ही डूबता जा रहा है I

किसलिए “मालिक” ने भेजा था, और तू क्या करने लगा,
गरीब – मजलूम बहन-बेटियों की आबरू से खेलने लगा,
जग का रचयिता अपने घर को उजड़ते हुए देखने लगा,
वक़्त “राज” की लेखनी को चुप रहने के लिए कहने लगा I

ए मुसाफिर,तू किस ओर आँख बन्द कर बढ़ता जा रहा है,
जाना कहाँ था ? अँधेरी खाई में खुद ही डूबता जा रहा है I
******************************************
देशराज “राज”
कानपुर I

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 620 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"रूढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
Phool gufran
बिरसा मुंडा
बिरसा मुंडा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU SHARMA
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
Loading...