Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2022 · 1 min read

जंगल के राजा

जो केवल तकते हैं तकते ही रहते हैं,
कायरता के प्रतीक सोच लिए जाते हैं ।
यूं तो कहलाते हैं जंगल के राजा किंतु,
गीदड़ो की झुंड में दबोच लिए जाते हैं ।।

#अभिषेक पाण्डेय (Abhi)

Language: Hindi
Tag: शेर
33 Likes · 4 Comments · 388 Views
You may also like:
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
महंगाई का क्या करें?
Shekhar Chandra Mitra
कुंडलियाँ
प्रीतम श्रावस्तवी
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
मैं भारत हूँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
बापू की पुण्य तिथि पर
Ram Krishan Rastogi
आजाद वतन के वासी हम
gurudeenverma198
*धनिक को देखिए धन के नशे में चूर रहते हैं...
Ravi Prakash
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
DrLakshman Jha Parimal
वो पत्थर
shabina. Naaz
✍️जन्नतो की तालिब है..!✍️
'अशांत' शेखर
जख्म
Anamika Singh
भाग्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरे हक़ में ही
Dr fauzia Naseem shad
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
Kaur Surinder
मौन
लक्ष्मी सिंह
Prayer to the God
Buddha Prakash
★ संस्मरण / गट-गट-गट-गट कोका-कोला 😊
*Author प्रणय प्रभात*
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
कृष्ण मुरारी
Rekha Drolia
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नियमन
Shyam Sundar Subramanian
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिंदी दोहा विषय- विजय*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...