Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2017 · 1 min read

छू लेता हूँ होंठ से

फागुन बीता भी नही,,लगा अखरने घाम!
आगे आगे देखिए,….क्या होगा अंजाम! !

जन गण मन रौंदे गए ,तंत्र समूचे तोड !
राजनीति ने कर लिया,सत्ता से गठजोड !!

छू लेता हूँ होठ से .रोजाना छह जाम!
बोतल पे जब से छपा, महबूबा का नाम !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
साहिल
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
Lokesh Sharma
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
तेरी मुस्कान होती है
तेरी मुस्कान होती है
Namita Gupta
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
हिलोरे लेता है
हिलोरे लेता है
हिमांशु Kulshrestha
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
सत्य और अमृत
सत्य और अमृत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
- शेखर सिंह
- शेखर सिंह
शेखर सिंह
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
सत्य कुमार प्रेमी
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
Loading...