Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l

छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
मुझे तेरी बाहों में, वैसे ही गुम हो जाना हैं ll

145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जीवन का निचोड़"
Dr. Kishan tandon kranti
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
"अवसाद"
Dr Meenu Poonia
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
Bahut hui lukka chhipi ,
Bahut hui lukka chhipi ,
Sakshi Tripathi
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
.
.
Ragini Kumari
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
*घने मेघों से दिन को रात, करने आ गया सावन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
Rj Anand Prajapati
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
सजन के संग होली में, खिलें सब रंग होली में।
सजन के संग होली में, खिलें सब रंग होली में।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
Loading...