Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू

छुड़ा नहीं सकती मुझसे, दामन कभी तू।
आना होगा एक दिन, मेरी गिरफ्त में तुझको।।
मुझे चाहिए तुझसे, जवाब मेरे सवालों का।
मिलेगा मेरा साया, सच हर जगह तुझको।।
छुड़ा नहीं सकती मुझसे———————।।

मुझपे ऐसा इल्जाम, कभी मत लगाना।
तेरा कसूर है, मुझसे से ही ज्यादा।।
मानता हूँ मुझसे भी, हुई है खताऐं।
उनमें रहा है हिस्सा, तेरा भी आधा।।
निभाई नहीं है आज, किसने वफ़ा अपनी।
वफ़ा मुझसे होना होगा, एक दिन तुझको।।
छुड़ा नहीं सकती मुझसे———————–।।

यह बात मुझसे पहले, क्यों नहीं तुमने कही।
लगा रखा है दिल, किसी से पहले तुमने।।
मना रखी थी उसके संग, रंग-रैलियां।
मेरे साथ फिर यह क्यों, खेल खेला तुमने।।
तोड़ दिया मेरा दिल, मानकर खिलौना क्यों।
मुझसे जोड़ना होगा, एक दिन दिल तुझको।।
छुड़ा नहीं सकती मुझसे———————।।

बहाया है अपना लहू , जैसे तुम्हारे लिए।
बहाये हैं मैंने आँसू , जैसे तुम्हारे लिए।।
तुझको भी मेरे लिए, अश्क बहाने होंगे।
सजाने होंगे ख्वाब, तुझको भी मेरे लिए।।
मरना होगा तुझको भी या तो, मेरे संग में।
जीना होगा या फिर, मेरे साथ तुझको।।
छुड़ा नहीं सकती मुझसे——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला-बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
एक बिहारी सब पर भारी!!!
एक बिहारी सब पर भारी!!!
Dr MusafiR BaithA
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*प्रणय प्रभात*
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
सादगी मुझमें हैं,,,,
सादगी मुझमें हैं,,,,
पूर्वार्थ
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
3411⚘ *पूर्णिका* ⚘
3411⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...