Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

छात्रों का विरोध स्वर

कविता

छात्रों का विरोध स्वर

विरोध स्वर जब गूंज उठे शिक्षक के सम्मान में।
हो जाए जब खुद ही छात्र अभिमान में।
कमी फिर खुद ही रह जाती है खुद के पहचान में।
शिक्षक की बातो को तल्लीन डूबकर सुनो।
जो बताए उस पर किंचित संदेह न करो।
बनाए रखिए कक्ष में शांति चिन्मयता का वातावरण।
क्योंकि शिक्षक ही है आपके भविष्य का दर्पण।
विनम्रता वाणी में हो।
हो न अहंकार की कर्कशता ।
जो तुम एक भविष्य के निर्माता के सम्मान को ही भूल जाओगे।
तो इस दुनिया के काफिले में कही खो जाओगे।
एक शिक्षक को चुनौती देने का मतलब।
खुद की अल्पज्ञता को सिद्ध करना।
गुरु दे न केवल धन हेतु शिक्षा।
करें पहले छात्र के अंदर अनुशासन, संस्कार की समीक्षा।
जड़ है वो जिसके गुरु नही।
मन का कोई अंत, शुरू नही।
हवा हवाई है सारी बाते।
बिना स्वार्थ आपका कोई हुआ नही।
गुरु के आगे न जो शीश झुकाए वो अहंकार से भरा हुआ है।
हो न जिसमे सभ्यता का पानी वो कुंआ नही है।
आरजे आनंद ज्ञान किसी को बिना गुरु हुआ नही है।
जो है विनम्र ज्ञानवान उसको अहंकार छुआ नही है।

Poet – RJ Anand Prajapati ( Co-founder Arya competition coaching classes)

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पापा (बाल कविता)*
*पापा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
गुमनाम 'बाबा'
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
ममता
ममता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
विमला महरिया मौज
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
Shweta Soni
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
"निष्ठा"
Dr. Kishan tandon kranti
!.........!
!.........!
शेखर सिंह
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...