Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

चाहतों की लाश सडती मुफ्लिसी के सामने — गज़ल

चाहतों की लाश सड़ती मुफलिसी के सामने
ज़िंदगी सहमी रही उस बेबसी के सामने

ताब अश्कों की नदी की सह न पायेगा कभी
इक समन्दर कम पडेगा इस नदी के सामने

चांदनी कब चाहती थी दूर हो वो चाँद से
पर अमावस आ गयी उसकी खुशी के सामने

रहमतों की आस किस से कर रहा बन्दे यहां
आदमी कीड़ा मकोड़ा है धनी के सामने

उम्र लंबी हो ये चाहत भी नहीं रक्खी कभी
इक घड़ी अच्छी बहुत है इक सदी के सामने

ज़िंदगी की मस्तियों में भूल जाता बंदगी
किस तरह जाऊं खुदा के घर उसी के सामने

जीतना या हारना उड़ते परिंदे का भी क्या
हौसले टूटें जो आंधी की खुदी के सामने

ज़िंदगी का बोझ ढोना सीख लो मुझ से ज़रा
ढेर हो जाते कई मुश्किल घड़ी के सामने

चेहरे लीपे पुते उड़ती फिरें कुछ तितलियाँ
पानी भरता हुस्न लेकिन सादगी के सामने

2 Comments · 399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*
* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी शक्ति..................
नारी शक्ति..................
Surya Barman
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
Who is the boss
Who is the boss
AJAY AMITABH SUMAN
मेरा संघर्ष
मेरा संघर्ष
Anamika Singh
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
बहुजन दीवाली
बहुजन दीवाली
Shekhar Chandra Mitra
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
The life is too small to love you,
The life is too small to love you,
Sakshi Tripathi
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...