Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

चाहतों की लाश सडती मुफ्लिसी के सामने — गज़ल

चाहतों की लाश सड़ती मुफलिसी के सामने
ज़िंदगी सहमी रही उस बेबसी के सामने

ताब अश्कों की नदी की सह न पायेगा कभी
इक समन्दर कम पडेगा इस नदी के सामने

चांदनी कब चाहती थी दूर हो वो चाँद से
पर अमावस आ गयी उसकी खुशी के सामने

रहमतों की आस किस से कर रहा बन्दे यहां
आदमी कीड़ा मकोड़ा है धनी के सामने

उम्र लंबी हो ये चाहत भी नहीं रक्खी कभी
इक घड़ी अच्छी बहुत है इक सदी के सामने

ज़िंदगी की मस्तियों में भूल जाता बंदगी
किस तरह जाऊं खुदा के घर उसी के सामने

जीतना या हारना उड़ते परिंदे का भी क्या
हौसले टूटें जो आंधी की खुदी के सामने

ज़िंदगी का बोझ ढोना सीख लो मुझ से ज़रा
ढेर हो जाते कई मुश्किल घड़ी के सामने

चेहरे लीपे पुते उड़ती फिरें कुछ तितलियाँ
पानी भरता हुस्न लेकिन सादगी के सामने

2 Comments · 301 Views
You may also like:
*अखिल भारतीय साहित्य परिषद की विचार-गोष्ठी एवं काव्य-गोष्ठी*
Ravi Prakash
* सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
बेदम हुए है हम।
Taj Mohammad
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
आ अब लौट चले
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
“अच्छे दिन आने वाले है” आ गये किसानो के अच्छे...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
एक ज़िंदा मौत
Shekhar Chandra Mitra
💢✳️कभी हमारे नाम का ज़िक्र करना✳️💢
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वक़्त का भी कहां
Dr fauzia Naseem shad
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
शीर्षक: "ये रीत निभानी है"
MSW Sunil SainiCENA
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ौजी
Lohit Tamta
✍️कैद ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हमारे पापा
Anamika Singh
"हिंदी की दशा"
पंकज कुमार कर्ण
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
बेवफाई
विशाल शुक्ल
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
✍️मौत का जश्न✍️
'अशांत' शेखर
मजबूरी
पीयूष धामी
Loading...