Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

चाहतों की लाश सडती मुफ्लिसी के सामने — गज़ल

चाहतों की लाश सड़ती मुफलिसी के सामने
ज़िंदगी सहमी रही उस बेबसी के सामने

ताब अश्कों की नदी की सह न पायेगा कभी
इक समन्दर कम पडेगा इस नदी के सामने

चांदनी कब चाहती थी दूर हो वो चाँद से
पर अमावस आ गयी उसकी खुशी के सामने

रहमतों की आस किस से कर रहा बन्दे यहां
आदमी कीड़ा मकोड़ा है धनी के सामने

उम्र लंबी हो ये चाहत भी नहीं रक्खी कभी
इक घड़ी अच्छी बहुत है इक सदी के सामने

ज़िंदगी की मस्तियों में भूल जाता बंदगी
किस तरह जाऊं खुदा के घर उसी के सामने

जीतना या हारना उड़ते परिंदे का भी क्या
हौसले टूटें जो आंधी की खुदी के सामने

ज़िंदगी का बोझ ढोना सीख लो मुझ से ज़रा
ढेर हो जाते कई मुश्किल घड़ी के सामने

चेहरे लीपे पुते उड़ती फिरें कुछ तितलियाँ
पानी भरता हुस्न लेकिन सादगी के सामने

2 Comments · 215 Views
You may also like:
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
सलाम
Shriyansh Gupta
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
कभी हम भी।
Taj Mohammad
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
पिता
Anis Shah
रिश्ते
Saraswati Bajpai
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
ईद
Khushboo Khatoon
Loading...