Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।

छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
बनकर प्यारे दोस्त, हमेशा सँग है रहना।
तजकर सारे स्वार्थ, कभी देना मत धोखा।
जीवन में सब कष्ट, हमें मिल जुल है सहना।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १२/१०/२०२३

2 Likes · 1 Comment · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
*सैनिक 【कुंडलिया】*
*सैनिक 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
फुलों कि  भी क्या  नसीब है साहब,
फुलों कि भी क्या नसीब है साहब,
Radha jha
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
2491.पूर्णिका
2491.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
"प्यार की नज़र से"
Dr. Kishan tandon kranti
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
Loading...