Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2022 · 21 min read

छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने वालें कुछ योद्धा

किसी भी दो ऐतिहासिक व्यक्तियों की तुलना करना संभव नहीं है और उचित भी नहीं है, किंतु इसका एक लाभ यह है कि ऐसी तुलना जिसके साथ की जा रही है, वह अपनी पूर्ण विशेषताओं के साथ हमारे दिल में जगह बनाता है। शिवाजी महाराज के जीवन में ऐसी-ऐसी घटनाएं घटी है कि सुनकर सारा संसार हिल जाए! उन घटनाओं के आधार पर हम उन्हें ‘एकमेवाद्वितीयं’ घोषित करके स्वयं गौरवान्वित हो सकते हैं।

शिवाजी की अपेक्षा अधिक पराक्रम करने वाले या अधिक प्रदेश जीतकर उस पर राज करने वाले पुरुष इतिहास में बहुत होंगे, किंतु शिवाजी जैसे गुणों का एकत्रीकरण किसी भी व्यक्ति में दिखाई नहीं देता। यदि हम शिवाजी के अवगुणों की खोज करें या किसी ने अगर चुनौती दी कि शिवाजी के दोष दिखा दो, तो हमें निराश ही नहीं, निरुत्तर भी होना पड़ेगा। एक दोष ढूंढने पर भी शिवाजी में दिखाई नही देता।

अनेक घटनाओं के आधार पर कहा जा सकता है कि शिवाजी महाराज महान समझे जाने वाले अन्य योद्धाओं की तुलना में अधिक महान थे। हम आठ विदेशी एवं दो भारतीय राजकर्ताओं के जीवन की संक्षिप्त जानकारी लेकर इन दस व्यक्तियों की तुलना शिवाजी महाराज के जीवन एवं कार्यों से करेंगे।
१. एलेक्जेंडर (सिकंदर)।
२. जुलियस सीजर।
३.हॉनीबॉल।
४. अटिला।
५. नेपोलियन बोनापार्ट।
६.विलियम वॉलेस।
७.चंगेज खान।
८.अकबर।
९.औरंगजेब।
१०.एडॉल्फस गस्टावस।

[ 1. ]
एलेक्जेंडर (सिकंदर) के पिता किंग फिलिप (द्वितीय) अत्यधिक पराक्रमी और बलशाली थे। एलेक्जेंडर को यही चिंता लगी रहती थी कि पिता इतने पराक्रमी है कि उनके बाद जीतने लायक कुछ बचेगा भी या नहीं! किंग फिलिप ने एरिस्टॉटल (अरस्तू) को एलेग्जेंडर का गुरु नियुक्त किया था। अरस्तू विश्वविख्यात तत्वज्ञानी प्लूटो के विद्यार्थी थे। ऐसे अरस्तु का विद्यार्थी बनकर एलेग्जेंडर ने अपनी मानसिक शक्ति और विवेक का विकास किया, हालांकि वह क्रोध पर संयम नहीं रख पाता था।
सीजर ने अपनी शुरुआत एक वकील के रूप में की। वह एक समृद्ध घराने से आया था। रोम 2500 वर्ष पूर्व एक प्रजासत्ताक राज्य था। वहां के नागरिक साहित्य, कला, वित्त एवं युद्ध की बारीकियों से परिचित एवं विकसित थे।
हॉनीबॉल के पिता हनीलकार एवं उसका जीजा हास्रूबॉल कार्थज के सेनापति थे। वे पीढ़ी दर पीढ़ी रोम के जैसे शक्तिशाली प्रजातांत्रिक देश के विरुद्ध संघर्ष कर रहे थे। प्रशासन एवं सैनिक प्रशिक्षण से जुड़ी उनकी नीतियां सचमुच प्रभावशाली थी।
अटीला एक हूण सरदार था जो थ्रेस की ओर से वार्षिक रकम वसूल करता था इस कारण उसकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ थी।
नेपोलियन बोनापार्ट ने सैनिक स्कूल में पढ़ाई की। उसके पराक्रमो की नीव फ्रांस की क्रांति एवं संपन्नता के कारण मजबूत हुई।
विलियम वॉलेस के पिता उसके बचपन में गुजर गए थे। वॉलेस को उसके धर्मगुरु चाचाओ ने पाला-पोसा। चाचाओं ने ही उसे फ्रेंच एवं लैटिन भाषाए सिखाई। वॉलेस को उसकी विद्वत्ता के लिए ‘सर’ की उपाधि मिली। स्वतः सिद्ध होता है कि वॉलेस या तो राजघराने से था या योद्धाओं के घराने से।
चंगेज खान एक छोटे कबीले का सरदार का पुत्र था। उसके पिता उसके बचपन में ही गुजर गये थे। उसकी माता ने बड़ी कठिनाई से उसका पालन पोषण किया, लेकिन मंगोल रणनीति के कारण चंगेज खान शक्तिशाली राज्य स्थापित कर सका।
अकबर और औरंगजेब थे मुगल बादशाहों के फरजंद यानी बेटे। शाही खानदान में इन दोनों को अस्त्र-शस्त्र एवं शास्त्रों की सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मिली ही होगी ऐसा मानकर चल सकते हैं।
एडॉल्फस गस्टावस स्वीडन जैसे संपन्न एवं विकसित देश का राजकुमार था। उसे भी अपने शाही खानदान में अस्त्र-शस्त्र एवं युद्धकला में पारंगत होने के बेहतरीन मौके मिले ही होंगे।
उपर्युक्त विवरण से सिद्ध होता है कि इन सभी योद्धाओं की पृष्ठभूमि शिवाजी महाराज की अपेक्षा उज्जवल थी। इसका अपवाद केवल एक व्यक्ति था और वह था चंगेज खान, जिसका जन्म मंगोलिया के ‘बोरीजीन’ कबीले में हुआ था। यह कबीला शिकार करके अपनी जीविका चलाता था।
शिवाजी महाराज की इनसे तुलना करें, तो शिवाजी महाराज की पार्श्व-भूमी असफलताओ एवं निराशाओ से आच्छादित थी। अपने आसपास के अंधकार को चीरकर शिवाजी सूर्य की तरह प्रकट हुए और जगमगाने लगे।

[ 2..] एलेक्जेंडर, सीजर, हॉनीबॉल, अटीला, रिचर्ड, चंगेज खान, एडॉल्फस, अकबर, औरंगजेब और नेपोलियन इन सभी ने अपनी विशाल एवं शक्तिशाली सेना के जोर पर घनघोर युद्ध किये, किंतु इनमें से एक ने भी शिवाजी महाराज की तरह अफजल खान के खिलाफ जैसा द्वंद्व युद्ध किया वैसा वन-टू-वन द्वंद्व युद्ध नहीं किया।
इतिहास बताता है कि विश्व के तकरीबन सभी राजा-महाराजा और बादशाह हाथी पर सवार होकर युद्धभूमि पर आते थे या फिर युद्ध भूमि से दूर ही बने रहते थे। जैसे किसी टीले की चोटी, जहां से वे युद्ध का निरीक्षण किया करते और हुक्म देते। युद्धभूमि के खून के छींटे उनके जिस्म पर आकर पढ़ते ही नहीं थे। अफजल खान के वध और शाइस्ता खान पर आक्रमण से यह प्रमाणित होता है कि शिवाजी महाराज स्वयं युद्ध भूमि में उतरकर शत्रु से वन-टू-वन युद्ध करते थे।

[ 3.] एलेक्जेंडर, सीजर, हॉनीबॉल, अटीला, रिचर्ड, चंगेज खान, एडॉल्फस, अकबर, औरंगजेब और नेपोलियन ये सभी युद्ध में हिस्सा लेते थे। युद्ध-भूमि में इनकी हार-जीत का फैसला इस आधार पर होता था कि किसके पास कितने और कैसे हाथी, घोड़े, ऊंट, तोपे, बंदूके हैं। सैनिकों की संख्या कितनी है और सेनापतियों की रणनीति में कितनी सूझबूझ है।
सभी युद्ध में एक समानता दिखाई देती है। वह यह कि सैनिकों की संख्या कितनी ज्यादा है और युद्ध सामग्री कितनी सटीक है। मुख्यतः इसी आधार पर जीत हासिल की जाती है। सेनापति की युद्ध-नीति एवं सैनिकों के मनोबल के आधार पर जीत हो तो सकती है मगर कभी-कभार किंतु जहाँ युद्ध होना हैं, वहाँ की भूमि की सूक्ष्म जानकारी भी जीतने का आधार बन सकती हैं, यह बात संसार में पहली बार लियोनिडस ने साबित करके दिखा दी; जब उसने थर्मोपीली में युद्ध किया और जीता।
थर्मोपीली जैसा युद्ध अन्य किसी भी योद्धा ने नहीं लड़ा सिवाय शिवाजी महाराज के। उनके सेनापति बाजीप्रभु ने घोड़खिंडी में थर्मोपीली शैली में छापामारी कर शत्रु को स्तब्ध कर दिया। बाजीप्रभु ने शिवाजी एवं स्वराज के लिए अपने प्राण न्योछावर कर खिंड को पवित्र किया।
थर्मोपीली के जैसी लड़ाई किसी भी योद्धा ने नहीं लड़ी, केवल शिवाजी ने लड़ी।

[ 4..] एलेक्जेंडर, सीजर, हॉलीबॉल, अटीला, रिचर्ड, चंगेज खान, एडॉल्फस, अकबर, औरंगजेब एवं नेपोलियन इन सब ने अपना गौरव बढ़ाने के लिए नए-नए शहरों, मस्जिदों, और महलों का निर्माण किया। एलेक्जेंडर तो इतना अभिमानी था कि उसने स्वयं पर ‘एलेकजांड्रिया’ नाम के 16 शहर बनवाएं। इतना ही नहीं, उसने अपने घोड़े बुसाफेलस के नाम पर ‘बुसेफेलिया’ शहर बनवाया। हॉनीबॉल, अटीला को ऐसा करने का अवसर नहीं मिला। वॉलस ने सेनापति के रूप में नगण्य कार्य किया।इसके विपरीत शिवाजी महाराज को अपनी प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए अनेक अवसर मिले किंतु उन्होंने अपने नाम पर न तो कोई शहर बनवाया, न ही कोई किला। इसी प्रकार अपने किसी शूरवीर सेनापति का नाम किसी इमारत को नहीं दिया। अत्यंत पराक्रमी सेनापति बाजीप्रभु का नाम भी घोड़खिंडी को नहीं दिया। तानाजी मालुसरे के पराक्रम के कारण कोंडाना किले पर शिवाजी का अधिकार हुआ था, लेकिन तानाजी की स्मृति में भी उन्होंने कोंडाना को ‘तानाजी किला’ नाम नहीं दिया। इसका कारण यही था कि शिवाजी महाराज की दृष्टि में सभी सेनापति एक जैसे पराक्रमी थे। कोई किसी से कम नहीं था। कोई किसी से बढ़कर नहीं था।

[ 5. ] एलेक्जेंडर, सीजर, हॉनीबॉल, अटीला, रिचर्ड, चंगेज खान, अकबर और औरंगजेब इन सभी ने असंख्य हत्याऐं की। चंगेज खान ने उग्रेंच के युद्ध में संसार में सबसे अधिक बिन-यांत्रिक कत्ल किए थे। हमने यह भी देखा है कि उसने अपने 20 साल के शासन में संसार की 17% आबादी यानी 6 करोड़ लोगों को मौत के घाट उतारा था। हॉनीबॉल युद्ध में मारे गए शत्रु सैनिकों के दाहिने अंगूठे कटवा कर मंगवाता था, ताकि गिनकर हिसाब रख सके। ऐसे अनेक सेनापति हुए हैं जो मारे गए सैनिकों के दाहिने कान या अंगूठे सबूत के तौर पर अपने सैनिकों से मँगवाते थे और तभी उन्हें पारितोषिक देते थे। अकबर ने चित्तौड़ के किले को कब्जे में लेने के बाद राजपूतों की अनगिनत हत्याएँ की थी। उसने मृत राजपूत सैनिकों के जनेऊ जमा करके तुलवाए थे। यह वजन 74.5 मन हुआ था। अटीला की क्रूरता के कारण उसे ‘स्कर्ज ऑफ गॉड’ कहा जाता था। इन सबके विपरीत हमने सूरत की मुहिम में देखा है कि शिवाजी को छल से मार डालने का प्रयत्न हुआ, फिर भी उन्होंने अपना संयम नहीं खोया एवं कत्लेआम की घोषणा नहीं की, बल्कि अपने सैनिकों को ऐसा करने से रोका इसलिए इतिहास शिवाजी को ‘जिनेवा युद्ध संधि’ का जनक कह सकता है।

[ 6..] संसार के सभी महान योद्धाओं में विश्व विजेता की लालसा धधक रही थी। वे अमर हो जाने के लिए इतने तड़प रहे थे कि अपने अहंकार को पहचान भी नहीं पाते थे। कालजयी सत्ता पाने के लिए वे इतने उन्मत्त थे कि किसी भी हद तक कुछ भी कर सकते थे। प्रजा की भलाई की उन्हें कोई चिंता नहीं थी। प्रजा उनके लिए सिर्फ शतरंज के मोहरों जैसी थी जिन्हें चाहे जैसे सरकाया जा सकता था। ये योद्धा महान तो क्या थे सिर्फ नामचीन ही थे। यह स्वयं का पराक्रम सिद्ध करने के लिए अपनी ही सेना की बलि देने से भी नहीं हिचकते थे। इसका सबसे ज्वलंत उदाहरण है नेपोलियन का रूस पर आक्रमण। इस आक्रमण के लिए नेपोलियन ने जब कूच किया था, तब उसके सैनिकों की संख्या चार लाख थी, लेकिन जब वह हार-थककर वापस लौटा, तब उसके सैनिक सिर्फ दस हज़ार रह गए थे।
जबकि शिवाजी महाराज का आजन्म आचरण इसके विपरीत रहा। उन्होंने व्यक्तिगत महिमा बढ़ाने के लिए कभी कोई युद्ध नहीं किया। उनका एक-एक युद्ध अपनी प्रजा के लिए स्वराज्य प्राप्त करने के लिए था। शिवाजी अपने सैनिकों की प्राण-रक्षा करने को अत्यधिक महत्व देते थे। उन्होंने अपने सैनिकों से हमेशा यही कहा कि शत्रु को टक्कर अवश्य दो, किंतु यदि वह अधिक बलशाली साबित हो रहा हो, तो झांसा देकर सामने से हट जाओ। तभी तो तुम युद्धभूमि में दोबारा आ सकोगे और शत्रु को नष्ट कर सकोगे। यदि तुमने पहली ही कोशिश में अपने प्राण दे दिये, तो लौटकर वापस कैसे आओगे? ज्यादा-से-ज्यादा जिंदा रहो, ताकि ज्यादा-से-ज्यादा शत्रुओं को नष्ट कर सको। शिवाजी राजपूतों की जौहर परंपरा के सख्त खिलाफ थे। जौहर में कभी-कभी एक ही युद्ध में तीन पीढ़ियों के योद्धा नष्ट हो जाते थे जैसा कि चित्तौड़ में सन् 1303, 1535 और 1658 में हुआ था।
शिवाजी महाराज स्वराज्य की कामना के साथ तो लड़ ही रहे थे, विदेशी आक्रमणों के विरुद्ध भी लड़ रहे थे एडॉल्फस, गस्टावस, हॉनीबॉल और विलियम वॉलेस ने भी कमोबेश उसी भावना के साथ युद्ध किए थे, जो शिवाजी महाराज की भावना थी—स्वतंत्रता की प्राप्ति एवं स्वराज्य की स्थापना।

[ 7.] शिवाजी महाराज का व्यक्तिगत जीवन अत्यंत पवित्र एवं निर्मल था। पराई स्त्री को उन्होंने हमेशा अपनी माता के समान ही माना। उनका वाक्य ‘अशीच अमुची आई असती सुंदर रूपवती’ विश्व प्रसिद्ध है सुंदर स्त्री को देखकर उन्होंने सदैव अपनी माता को ही याद किया।
सन् 1657 में शिवाजी महाराज की ओर से आबाजी सोनदेव ने कल्याण पर हमला किया। उस हमले में कल्याण के सूबेदार मुल्ला अहमद और उसकी सुंदर बहू को कैद कर लिया गया। आबाजी सोनदेव ने मिली हुई लूट के साथ बहू को भी शिवाजी के सामने पेश किया। तब शिवाजी ने उसे देखते ही कहा, “काश! हमारी माता भी इतनी सुंदर होती तो हम भी ऐसे ही सुंदर हो जाते।” इन शब्दों के साथ शिवाजी ने उसे बाइज्जत उसके पति के पास भेज दिया।
जबकि दूसरी ओर जो दृश्य है, वह तो ऐसा है कि रोम-रोम कांप जाएं। एलेक्जेंडर (सिकंदर) समलैंगिक था। जुलियस सीजर और क्लियोपैट्रा का ऐसो-आराम कितना बड़ा-चढ़ा था, दुनिया जानती है। अकबर जैसे मुगल बादशाह के जनानखाने में 5000 से ज्यादा स्त्रियां थी। औरंगजेब ने अपने बड़े भाई दारा शिकोह की हत्या करवाने के बाद दारा की दोनों बेवा के साथ निकाह करना चाहा। एक बेवा बाकायदा उसकी बीवी बन गई थी। किंतु दूसरी बेवा ने, जो हिंदू वंश की थी, औरंगजेब को किस प्रकार सबक सिखाया था, यह हम जानते हैं।
चंगेज खान एक ही रात्रि में एकाधिक स्त्रियों का बलात्कार करता था। अटीला की आठवीं शादी में पहली रात्रि के अवसर पर ही, दुल्हन ने छुरा भोंककर दूल्हे अटीला की हत्या कर दी थी। कुछ इतिहासकारों की राय में उस रात अटीला की मौत अत्यधिक शराब पीने के कारण उसके गले की नस फट जाने से हुई थी। नेपोलियन तो छैल-छबीला था ही, उसकी पत्नी जोसफीन भी उस से दो कदम आगे थी वह भी खुल्लमखुल्ला।
नामचीन विदेशी योद्धाओं के बीच अपवाद-स्वरूप केवल एडॉल्फस गस्टावस और विलियम वॉलेस ही रह जाते हैं, जो भोग-विलास के अतिरेक से बचे।

[ 8..] उपरोक्त योद्धाओं में से केवल चंगेज खान, रिचर्ड द लॉयन हार्ट और जुलियस सीजर ऐसे थे जिन्हें कैद भुगतनी पड़ी थी।चंगेज खान ने कैद की सजा चुपचाप भुगत ली थी, क्योंकि उस समय वह बहुत छोटा था। रिचर्ड द लॉयन हार्ट और जुलियस सीजर ने धन देकर कैद से छुटकारा पाया था। विलियम वॉलेस को धोखे से पकड़कर देशद्रोह का आरोप लगाकर मृत्युदंड दिया गया था।
शिवाजी अकेले ऐसे योद्धा है, जिन्हें आमंत्रण देकर आगरा के मुगल दरबार में बुलाया गया और फिर सम्मान देने की बजाय कैद कर लिया गया उन्होंने युक्ति लड़ाकर बेहद चमत्कारिक तरीके से उस कैद से छुटकारा पा लिया और पलायन किया। पलायन भी उन्होंने अकेले नहीं किया। उनके साथ 1,498 व्यक्ति आगरा आए थे। उन्हें आगरा में ही छोड़कर शिवाजी ने यदि अकेले पलायन किया होता, तो वे सभी व्यक्ति बादशाह औरंगजेब की हिरासत में आ जाते और शायद मौत के घाट उतार दिए जाते। शिवाजी अपने सभी 1,498 व्यक्तियों को अपने साथ लेकर पलायन कर गए। इतनी बड़ी भीड़ पलायन कर गई और बादशाह के कारिंदो को तत्काल कुछ पता भी नहीं चला! शिवाजी स्वयं तो कैद से मुक्त हुए ही साथ में अपने 1,498 व्यक्तियों को भी उन्होंने उनके प्रदेश में सुरक्षित पहुंचाया। शिवाजी का यह पलायन संसार के सबसे अनोखे पलायन के रूप में देखा जाता है।
नेपोलियन को दो बार कैद हुई थी। पहली बार एल्बा से भागा। दूसरी बार वह सेंट हेलेना से भाग नहीं सका और वही उसकी मृत्यु हुई।

[ 9.] भारत पर आक्रमण करने के पश्चात एलेक्जेंडर (सिकंदर) के सैनिकों ने उसके साथ असहयोग किया था।
जुलियस सीजर का सीनेट में खून कर दिया गया था।
विलियम वालेस के साथ विश्वासघात हुआ था।
रिचर्ड द लॉयन हार्ट की छावनी में फ्रेंच सेना ने असहयोग किया था।
ओहदेदारों को विद्रोह करने की सूझे ही नहीं इस गरज से अकबर ने ओहदेदारों की बेटियों को कैदकर अपने जनानखाने में रख लिया था। चंगेज खान ने भी ऐसा ही किया था। हॉनीबॉल के साथ स्वयं उसी के देश कार्थेज ने धोखा किया था, जिससे हॉनीबॉल को कार्थेज छोड़ना पड़ा था। नेपोलियन बोनापार्ट से तंग आकर फ्रांस के राजकर्ताओ ने उसे दो बार कारागार में डाला था।
एडॉल्फस गस्टावस एवं अटीला की सेना ने उनके साथ कभी धोखा नहीं किया था। शिवाजी महाराज के साथ भी कभी असहयोग नहीं हुआ। उन्होंने अपनी सेना में स्वराज्य की ऐसी जोत जगाई थी कि शिवाजी जब आगरा में नजरबंद थे और उनके छूटने की संभावना बहुत कम थी तब भी एक भी सेनानायक उनका विरोधी नहीं बना था। शिवाजी के बड़े बेटे संभाजी अवश्य इसका अपवाद थे, किंतु संभाजी महाराज के विद्रोह के पीछे कुछ खास कारण भी थे, जिनकी मीमांसा हम पहले कर आए है। ताज्जुब की बात यह है कि जिस संभाजी ने शिवाजी से विद्रोह किया, उन्ही संभाजी के साथ शिवाजी के सैनिकों ने भरपूर सहयोग उस वक्त किया था, जब औरंगजेब दक्षिण में आया था, तब शिवाजी के सैनिक संभाजी के साथ कंधे-से-कंधा मिलाकर खड़े हुए थे और 27 वर्षों तक औरंगजेब से लड़ते रहे।

[10..] उपर्युक्त सभी योद्धाओं ने किलो या शहरों को घेरकर जीत हासिल की। अकबर ने चित्तौड़ पर विजय प्राप्त करते समय सबात का प्रयोग किया। रिचर्ड द लॉयन हार्ट यरूसलम को जीत नहीं सका हॉनीबॉल ने संपूर्ण इटली पर अपना प्रभाव जमाया किंतु रोम में वह असफल रहा। चंगेज खान घेरे डालने के लिए आत्मघाती सैनिकों की टोलियां रवाना करता था।औरंगजेब 27 वर्ष घेरे की रणनीति में फंसा रहा। इसके विपरीत शिवाजी महाराज ने एक ही समय में कम से कम सैनिक बल इस्तेमाल करते हुए अपने लक्ष्य को शीघ्रतीशीघ्र प्राप्त किया। मसलन, सिंहगढ़ पर एक ही रात में कब्जा जमा लिया। शाइस्ता खान को एक ही रात में तीन उंगलियाँ काट कर कहीं का नहीं रखा। अफजल खान को गिनती के ही क्षणों में मौत के घाट उतार दिया। इस प्रकार फौरन हरकत में आकर फौरन नतीजे देने वाले सैनिक पैंतरों को ‘कमांडो रेड’ कहते हैं।

[11.] एलेक्जेंडर, सीजर, हॉनीबॉल, अटीला, रिचर्ड, चंगेज खान, औरंगजेब इन योद्धाओं को समाज सुधार से कोई मतलब नहीं था। इस संदर्भ में अपवाद स्वरूप एडोल्फस गस्टावस का नाम लिया जा सकता है जिसने एक विश्वविद्यालय की स्थापना की थी। अकबर ने समाज सुधार के लिए कुछ योजनाएं बनाई। किंतु शिवाजी ने, अपनी अराजक स्थितिओ से जूझते हुए भी चार जबरदस्त सामाजिक सुधार किए:
१.) एक सती प्रथा पर रोक। २.) छुआछूत पर रोक। ३.) गुलामी की प्रथा से छुटकारा। ४.) धर्म-परिवर्तन किए लोगों का शुद्धिकरण।
भाषा और संस्कृति के क्षेत्र में भी शिवाजी ने उस वक्त क्रांति ला दी थी, जब उन्होंने ‘मराठा राजभाषा कोश’ का निर्माण किया। एक साथ इतने रूढ़ क्षेत्रों में लगातार एवं सफलतापूर्वक कार्य करने वाला राजनेता शिवाजी महाराज के सिवा दूसरा कोई नहीं है। उस समय तो नहीं ही था, आज भी नहीं है।
शिवाजी महाराज ने स्वयं का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए समाज व राजनीति को प्रभावित किया। शिवाजी सर्वथा निष्पाप जीवन जीते थे। वे केवल साहसी नहीं थे, समझदार भी है। राजनीति, धर्म, संस्कार, संस्कृति, न्याय, शिक्षा, भाषा, विश्वास-अंधविश्वास, धार्मिक सौहार्द, पर्यावरण आदि अनेक परस्पर भिन्न क्षेत्रों में वे एक साथ संचरण करते थे। ऐसी कोई कुप्रथा नहीं थी, जिसे उन्होंने जड़ मूल से नष्ट नहीं किया, ताकि समाज में स्थाई सुधार हो सके।

[12..] उपर्युक्त सभी योद्धाओं ने संपूर्ण समाज में सुधार करने एवं स्वतंत्र जलसेना की स्थापना करने जैसे कार्य किए ही नहीं, जबकि ये कार्य शिवाजी महाराज के जीवन की उपलब्धियां थे।
हॉनीबॉल सामाजिक कार्यों अथवा सैनिक दांवपेच के क्षेत्र में शिवाजी के सामने कुछ भी नहीं था, किंतु उसने एक ऐसा साहसिक कार्य किया था, जिसके लिए सारा संसार आज भी उसका लोहा मानता है। हाथी पहाड़ नहीं चढ़ सकते लेकिन हॉनीबॉल के हजारों हाथी एक साथ आल्प्स पर्वत की हिमाच्छादित ऊंचाइयों पर चढ़े और फिर सुरक्षित नीचे भी उतरे। हॉनीबॉल की भीमकाय हाथीसेना ने जब अचानक इटली में प्रवेश किया तो सब डर गए। हॉनीबॉल ने बड़ी सैन्य-कल्पना की और फिर उसे आजमाकर देखने में भी सफलता पाई, यह बात आज भी असंभव लगती है।

[13.] उपरोक्त योद्धाओं ने गुलामी प्रथा का विरोध नहीं किया। विरोध करना तो दूर, उल्टे उन्होंने गुलामी जैसी जघन्य प्रथा को बढ़ावा दिया। उन्होंने केवल अपने लाभ को देखा। गुलामों का वे मनचाहा शोषण कर सकते थे। गुलामों को वे युद्ध के मैदान में भी उतारते थे। गुलाम स्त्रियों के यौन शोषण का कोई अंत नहीं था। शत्रु की जब हार हो जाती तो रनिवास की सारी स्त्रियां पकड़कर गुलाम बना ली जाती। राजघराने की स्त्रियों को भी नहीं छोड़ा जाता। ऐसी स्थिति से बचने के लिए ही भारत में जौहर प्रथा शुरू हुई थी। ज्यों ही राजा के हारने की खबर आती, महलों की सारी स्त्रियां विशाल अग्नि-कुंडो में एक-दूसरे के हाथ पकड़कर ऊंचाईयों से चीखती हुई कूद जाती और जीवित ही भस्म हो जाती। गुलामी से बचने के लिए इतनी भीषण चेष्टा संसार के अन्य किसी देश में नहीं होती थी।
शिवाजी महाराज के प्रदेशों में डच, फ्रेंच, पुर्तगीज इत्यादि विदेशियों द्वारा मनुष्यों की खरीद-फरोख्त हो रही है, ऐसा समाचार पाते ही उन तमाम विदेशियों को शिवाजी ने इतने कड़े शब्दों में चेतावनी दी थी कि गुलामी की कुप्रथा महाराज के राज्य से सर्वथा लुप्त हो गई थी। यूरोपीय देशों एवं अमेरिका में भी जब गुलामी प्रथा धड़ल्ले से जारी थी, तब शिवाजी ने अपने स्वराज्य में उसका सफाया कर दिया था। शिवाजी विश्व के सर्वप्रथम राज्यकर्ता थे, जिन्होंने गुलामी की कुप्रथा से रूबरू होते ही उसका सफाया कर दिया। ऐसा शिवाजी ही कर सकते थे। किसी ओर में न तो इतना विवेक था और न ही इतनी शक्ति थी कि गुलामी को समाप्त कर सकता।

[14..] इतिहास का अवलोकन करने पर कुछ ऐसे राज्यकर्ता उभरकर आते हैं, जो स्वयं की सफलता को पचा नहीं पाए। वे अपने-आपको इतने महान एवं श्रेष्ठ समझने लगे, जैसे साक्षात ईश्वर! मनोविज्ञान में इस विकार को ‘मैग्लोमेनिया’ कहते हैं। इसके लक्षण है— खुद को अति भव्य, अति ज्ञानी, अति महत्वपूर्ण, अति शक्तिशाली व अति भाग्यवान समझना। हिंदी में इसे ‘ईश्वरीकरण’ कहा जाता है।
उपरोक्त शासक बाकायदा घोषित किया करते थे कि वे दैवी पुरुष है और उनमें साक्षात ईश्वर का अंश है, वे साक्षात ईश्वर ही है। यह मनोभ्रम उनके समग्र विवेक पर छा जाता। इतनी बेपैर की बात पर वे शासक स्वयं तो यकीन करते ही, अपनी प्रजा को भी मजबूर कर देते कि सब उन्हें ईश्वर ही माने, ईश्वर की ही तरह उनकी पूजा करें, सामने आते ही साष्टांग प्रणाम करें, बिलख-बिलखकर दुखड़े रोए और पूरे यकीन के साथ ‘ईश्वर’ का आशीर्वाद ध्यान करें, जिससे चुटकियों में उनके समस्त कष्टों का निवारण हो जाए।
एलेक्जेंडर (सिकंदर), जुलियस सीजर, अकबर, औरंगजेब , चंगेज खान और अटीला। ये सब अपने आपको ईश्वर ही समझने लगे थे। शिवाजी ऐसे मतिभ्रम के शिकार कभी नहीं हुए। उन्हें आभास तो था कि कोई दैवी शक्ति उनकी रक्षा करती है; तभी तो वह प्रचंडतम परिस्थितियों में भी अपना बचाव कर लेते थे लेकिन ऐसा उन्होंने कभी नहीं कहा, न ही कभी सोचा कि वह ईश्वर के अवतार है अथवा साक्षात ईश्वर है! उन्होंने मात्र इतना कहा कि उनका यह जो राज्य है, यह श्री (भगवान) की इच्छा एवं कृपा से है। उन्होंने सभी धर्मों की, सभी धर्म ग्रंथों की एक जैसी कद्र की। उन्होंने मंदिर बनवाए, तो मस्जिद भी बनवाई। शिवाजी महाराज निसंदेह सहिष्णुता के समुद्र थे। उनके जैसी सहिष्णुता आज हम इक्कीसवीं सदी में भी शायद ही किसी में देख पाते हैं।
शिवाजी के अनुसार स्वराज्य स्वयं ही ईश्वर का अवतार है। स्वराज्य हमें वही संरक्षण देता है जो ईश्वर देता है। स्वराज्य की पूजा ही ईश्वर की पूजा है।

[15.] एलेक्जेंडर 32 साल की उम्र में ही युद्ध के जख्मों के कारण मर गया। जुलियस सीजर की मृत्यु सीनेट के 23 सदस्यों द्वारा किए गए सामूहिक कत्ल के कारण हुई। हॉनीबॉल ने विफलता के आतंक से डरकर आत्महत्या कर ली। विलियम वॉलेस को फांसी देकर उसके शव के पांच टुकड़े किए गए। और अटीला की आठवीं पत्नी ने शादी की पहली रात को ही उसे छुरा मारकर उसका खून कर दिया। रिचर्ड द लॉयन हार्ट और एडोल्फस गस्टावस, इन दोनों की मौत युद्ध भूमि में हुई। नेपोलियन को कैद करके आर्सेनिक जहर दे दिया गया। औरंगजेब को अपनी जिंदगी के आखिरी 27 वर्ष राजधानी से दूर, दक्षिण भारत में, विफलताओं के बीच गुजारने पड़े।
शिवाजी महाराज अत्यंत अस्थिर एवं कष्टदाई जीवन जीते थे। उन्होंने हमेशा अपनी सेना के सामने रहकर ही युद्ध किया, जो कि उपर्युक्त योद्धाओं ने नहीं किया। देहावसान से पहले शिवाजी के अंतःकरण को दुखी करने वाली एक ही बात थी और वह थी उनके जेष्ठ पुत्र संभाजी का विद्रोह। अथक परिश्रम से स्थापित किए गए स्वराज्य का भविष्य क्या है, इसे लेकर भी शिवाजी महाराज अत्यंत चिंतित रहे। इस संदर्भ की सभी संभावनाओं को ध्यान में रखकर उन्होंने एक योजना बनाई थी, जिसका वर्णन हम पूर्व में स्पष्ट कर चुके हैं।
सफलताओं एवं संघर्ष का सिंहावलोकन करने के बाद शिवाजी ने महसूस किया था कि उनकी संपूर्ण महत्वाकांक्षाऐं पूर्ण हो गई है। उन्होंने मराठा समाज को एकता के सूत्र में बांध लिया था एवं स्वराज्य का एक राष्ट्र के रूप में निर्माण भी कर लिया था। यह उन्हीं का प्रताप था कि जिससे मराठा अस्मिता का एक स्वतंत्र अस्तित्व स्थापित हो सका।
1 मार्च, 1680 को शिवाजी महाराज रायगढ़ आए। 7 मार्च को उनके कनिष्ठ पुत्र राजाराम का जनेऊ संस्कार किया गया और 15 मार्च को उसकी शादी सेनापति हंबीरराव मोहिते की बेटी से की गई। करीब 22 मार्च को महाराज को पेचिश की शिकायत हुई। शुरू में उसका स्वरूप घातक नहीं था, इसलिए उस वक्त मोरोपंत पेशवे, अनाजीचंद्र सूरनिस, जनार्दन पंत हणमंते, हंबीरराव मोहिते, निराजी पंत न्यायाधीश जैसे अष्टप्रधान वहां मौजूद नहीं थे।
पेचिश चंद दिनों में इतनी गंभीर हो गई कि शिवाजी महाराज अपने होश खो बैठे। ऐसी परिस्थिति में किसी के ध्यान में ही नहीं आया कि महाराज का वारिस कौन होगा। न स्वयं शिवाजी ने ऐसी कोई घोषणा की और न ही इस विषय पर किसी प्रकार की लिखा पढ़ी की गई।
इतना जरूर था कि महाराज को अपना अंतिम समय निकट होने का आभास हो चुका था। उन्होंने अपने अंतरंग व्यक्तियों को पास बुलाया और समझाते हुए कहा “दुखी मत होइए। यह तो मृत्युलोक हैं। यहां जो आता है, जाने के लिए ही आता है। यही तो है जीवन की गति। आपको यहां अपना काम निर्मल बुद्धि से करते रहना है। अब आप हमें अकेला छोड़ दें। हमें श्री भगवान का स्मरण करना है।”
इस तरह मुंह में गंगाजल, माथे पर चंदन का तिलक, गले में रुद्राक्ष की माला और होठों पर ‘शिव शिव राम’ के उच्चारण के साथ उनका देहावसान हुआ। यह अवसान उनके समकक्ष सभी योद्धाओं की तुलना में अत्यंत सुख-शांति एवं संतुष्टि से परिपूर्ण था।

[16..] एलेक्जेंडर की मृत्यु के बाद सिर्फ पांच वर्ष में ही उसका धूमधाम से जीता हुआ साम्राज्य टुकड़े-टुकड़े हो गया। स्वयं उसी के सेनापति स्वतंत्र राजा बनकर शान से जीने लगे।
हॉनीबॉल, अटीला के साम्राज्य का भी ऐसा ही हाल हुआ। लेकिन जुलियस सीजर के नाम से अस्तित्व में आया जुलाई महीना आज भी मौजूद है। सीजर की मृत्यु के बाद हर रोमन सम्राट ने ‘सीजर’ के नाम को अपनी उपाधि के रूप में धारण किया। रिचर्ड द लॉयन हार्ट ने यरूशलम पर कब्जा करने के लिए भीषण युद्ध किया था लेकिन सन् 1095 से 1272 तक, यानी 177 वर्ष और 10 धर्मयुद्धों (क्रूसेड्स) के बाद आज भी यरुशलम पर कब्जा ईसाइयों का नहीं है। इजरायल और पेलेस्टीन, यह दोनों देश उस पर अपना हक जताते हैं। चंगेज खान को आज भी बहुत इज्जत दी जाती है, लेकिन सिर्फ मंगोलिया में। शेष विश्व में उसे क्रूरता के प्रतीक के रूप में ही जाना जाता है। एडॉल्फस गस्टावस को स्वीडन में बहुत मानते हैं। वह स्वीडन का एक ही राजा है जिसे ‘डेन स्टोर दि ग्रेट’ की उपाधि दी गई है। नेपोलियन बोनापार्ट को आज तक कोई भी विश्लेषक-इतिहासकार पूर्णतया नहीं समझ पाया। वह विश्व का सबसे विलक्षण सम्राट समझा जाता है।
अकबर को ‘मुग़ल-ए-आज़म’, ‘जोधा अकबर’ और ‘अनारकली’ जैसी हिंदी फिल्मों ने ही प्रतिष्ठा दी उसे ऐसी जगमगाहट से ओतप्रोत कर दिया है, जो वास्तविकता के साथ रंच मात्र भी मेल नहीं खाती। इसे विडंबना ही कहा जाएगा कि अकबर को सर्व-धर्म-समभावी के रूप में प्रस्तुत किया जाता है, जबकि सत्य ऐसा नहीं है। अकबर ने अपनी राजपूत पत्नी को धर्मांतरण करने पर मजबूर किया। उसके नाम की मस्जिद जहांगीर ने लाहौर में बनवाई। 1947 के पहले स्वतंत्रता संग्राम में उसका कोई भी स्थान नहीं है मतलब साफ है कि आम जनता में अकबर की छवि एक प्रेमी के रूप में है, न की श्रेष्ठ या देशभक्त योद्धा के रूप में। औरंगजेब को भारत का सबसे क्रूर राजकर्ता समझा जाता है। उसकी क्रूरता सिर्फ दुश्मनों तक सीमित नहीं थी। वह विश्व का एक ही राजकर्ता है, जिसने सत्ता प्राप्त करने के लिए अपने पिता को कैद किया और अपने तीन भाइयों को मार डाला।
हमें मालूम है कि शिवाजी महाराज ने 350 किले (गड़) बनवाए या ठीक कराए थे। उन्हीं किलो की शक्ति से शिवाजी महाराज ने स्वराज्य की स्थापना की थी। शिवाजी हमेशा कहते थे कि औरंगजेब जल्द ही दक्षिण में आने वाला है। अगर वह हर वर्ष हमारा एक किला छीनेगा, तो भी उसे 350 वर्ष लग जाएंगे, हमें परास्त करने में।
उस वक्त यह वाक्य सभी को अतिश्योक्ति-भरा लगा होगा, लेकिन आज 2022 में, यानी कि शिवाजी महाराज के अवसान के 342 वर्ष बाद, महाराष्ट्र में सभी सत्ताधारी दल शिवाजी महाराज का ही नाम लेकर राज कर रहे हैं। शिवसेना ने शिवाजी महाराज के नाम से भूमिपुत्रों के अधिकारों की रक्षा के लिए पक्ष की स्थापना की। शिवाजी महाराज के वंशज ही कांग्रेस एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस जैसे पक्षों की तरफ से राष्ट्रीय एवं प्रादेशिक चुनावो में उम्मीदवारी करते हैं और विजेता होकर देश की सेवा में जुट जाते हैं। इसका एक ही अर्थ है कि शिवाजी महाराज आज भले ही प्रत्यक्ष उपस्थित नहीं है और उनके किले भी युद्ध-स्तर पर सक्रिय नहीं है, किंतु शिवाजी महाराज के विचार आज भी महाराष्ट्र पर राज कर रहे हैं।
बिना किसी अतिशयोक्ति के कहा जा सकता है कि भारत में भले ही लोकशाही है, किंतु महाराष्ट्र में आज भी शिवशाही है, क्योंकि चाहे कोई भी पक्ष सत्ता में आए, शासन तो वह महाराज का ही नाम लेकर करता है। शिवाजी महाराज इतिहास के एकमात्र शासक है, जिन्होंने अपने राज्य के बारे में 350 वर्ष बाद तक का विचार किया है।
गुरुवर्य राजवाड़ा ने शिवाजी महाराज के कार्यों का जो सिंहावलोकन प्रस्तुत किया है, उत्कृष्ट है।
शिवाजी महाराज ने सबके साथ न्याय का, नीति का, पराक्रम को पुरस्कृत करने का, स्व-धर्म परायणता का एवं पर-धर्म के प्रति सहिष्णुता का व्यवहार किया। यह केवल शिवाजी महाराज ही थे, जिन्होंने एक साथ यह सब किया, अनेक लड़ाइयों में विजय प्राप्त की। मैदान में, सागर तट पर एवं पर्वतों पर तीन- चार सौ किलो का निर्माण किया, नई सेना तैयार की, नई जल सेना का मानो शून्य में से सृजन किया। मातृभाषा का महत्व बढ़ाया, कवियों एवं बुद्धिजीवियो को आश्रय दिया, नए शहर बनवाए, स्व-धर्म की स्थापना करके उसे समृद्धि दी, सार यह की स्वदेश का उद्धार करके एवं मातृभूमि को स्वतंत्र व सुखी करने का उत्कृष्ट कार्य करने के फलस्वरूप इस पृथ्वी का संरक्षण किसी ने अगर किया तो वह शिवाजी महाराज ही थे। उनका व्यक्तिगत व्यवहार एवं सार्वजनिक पराक्रम इतने श्रेष्ठ थे कि यदि उनकी तुलना समकालीन योद्धाओं व हस्तियों के साथ की जाए, तो यही निष्कर्ष निकले कि शिवाजी महाराज के जैसा सर्वगुण संपन्न व्यक्ति कोई अन्य था ही नहीं।
निसंदेह वे एक अवतारी पुरुष थे। उनके बारे में लिखते हुए उनके गुरु स्वामी समर्थ रामदास कहते हैं कि उनके गुण इतने महान् थे कि उनकी तुलना कैसी और किससे? यशवंत, कीर्तिवंत, सामर्थ्यवंत, वरदवंत, नीतिवंत, ज्ञानी, आचारशील, विचारशील, दानशील, कर्मशील, सर्वज्ञ, धर्ममूर्ति, दृढ़निश्चय, अखंड उद्देश्य धारण करने वाला राजयोगी ऐसे अनेक विशेषणों से स्वामी रामदास समर्थ ने शिवाजी महाराज को विभूषित किया है।
शिवाजी महाराज के गुणों की श्रेष्ठता आसानी से समझ में आती है। जिस पुरुष को कोई व्यसन नहीं था, जिसने पर-स्त्री को माता के समान माना, जिसने अपने धर्म के साथ दूसरे धर्मों का भी आदर किया, युद्ध में जख्मी हुए शत्रु को जिसने उपचार करवाकर उसके घर भेजा, जिसने फौज, किले, जलसेना आदि के समायोजन से स्वराज्य के संरक्षण की योजनाएं बनाई। जिसने सबसे पहले स्वयं को संकट में डालकर लोगों को मातृभूमि की सेवा करना सिखाया, जिसने अनेकों के प्राण केवल अपनी बुद्धिमत्ता का उपयोग करके बचाए, जिसने औरंगजेब के समान पराक्रमी बादशाह के भगीरथ प्रयत्नों को लगातार 30 वर्षों तक रोके रखा, इतना ही नहीं जिसने 3 शक्तिशाली राज्यो को हराकर संपूर्ण भरतखंड में अभूतपूर्व स्वतंत्र स्वराज्य की स्थापना की एवं उसकी कीर्ति पृथ्वी पर अजर-अमर की, उस प्रतापी पुरुष की योग्यता का वर्णन करने की क्षमता भला किस में है?
पूना के महल में औरंगजेब का शाइस्ता खान जैसा शक्तिशाली सूबेदार, साथ में अन्य सूबेदार भी, पांच वर्ष तक डटे रहे सिर्फ शिवाजी का दमन करने के लिए। इनके शिकंजे से बचे रहने का प्रयास भी केवल तब हो सकता था, जब शौर्य के साथ-साथ धन का भी संबल उपलब्ध होता। धन-संवर्धन के लिए शिवाजी ने सूरत का रुख किया। सूरत की नाक दबाकर शिवाजी ने अपने स्वराज्य का इतना आर्थिक संवर्धन किया कि उसी की शक्ति से उन्होंने औरंगजेब के सूबेदार के शिकंजे से छुटकारा पाया और उन्हें सबक भी सिखाया। शिवाजी के इस युद्ध कौशल की प्रशंसा इतिहास में हमेशा होती रहेगी।
किसी के भी तुष्टीकरण के लिए उसे जागीर या जमीन के टुकड़े न बांटने वाले, पक्षपात रहित न्याय करने वाले, दुष्टों के लिए काल एवं प्रजा के लिए संरक्षक साबित होने वाले, प्रजा को अपनी ही संतान की तरह चाहने वाले, हमेशा सावधान एवं कार्यरत रहने वाले, माता के हर वचन का पालन करने वाले, हमेशा राष्ट्र की ही भलाई चाहने वाले, स्वदेश-स्वभाषा-स्वधर्म को संपत्ति मानकर उनकी रक्षा एवं संवर्धन करने वाले, हर बुराई से डरने वाले, किंतु शूरवीर। इन तमाम गुणों से युक्त शिवाजी महाराज एक और अद्वितीय राज्य-संस्थापक थे।
इस प्रकार छत्रपति शिवाजी महाराज पुण्यवान व्यक्तियों की श्रेणी में रहने योग्य है।

जय माँ भवानी जय शिवाजी🙇
🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

2 Likes · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
डॉ. दीपक मेवाती
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
2395.पूर्णिका
2395.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
"प्रथम साहित्य सृजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...