Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

चौपाई

“चौपाई”

बाबा शिव शंभू सैलानी, कीरति महिमा अवघड़ दानी
बाजत डमरू डम कैलाशा, राग-विराग अटल बर्फानी॥-1

स्वर चौदह चौरासी योनी, लिखा ललाट मिटे कत होनी
सत्य सती धरि रूप बहूता, को सके रोक यज्ञ अनहोनी॥-2

चौदह वर्ष बिपिन वनवासा, लक्ष्मण राम सिया विश्वासा
रावण कुंभकरण दुर्वाषा, अहम कोप निद्रा रुध साँसा॥-3

खड़ा हिमालय साधू संगा, कलरव साधक योग विहंगा
मान सरोवर निश्छल गंगा, नन्दन नंदी बमबम भंगा॥-4

माँ जगदंबे सिंह सवारी, रूप कालिका दैत्य संघारी
विनती गौतम कर-कर जोरी, पूत कपूत क्षमहू महतारी॥-5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

Language: Hindi
602 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कला
कला
Saraswati Bajpai
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आपकी राय मायने रखती है
आपकी राय मायने रखती है
Shekhar Chandra Mitra
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
*दर्पण (बाल कविता)*
*दर्पण (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
प्रथम अभिव्यक्ति
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
“ जियो और जीने दो ”
“ जियो और जीने दो ”
DrLakshman Jha Parimal
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2260.
2260.
Dr.Khedu Bharti
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
Mukar jate ho , apne wade se
Mukar jate ho , apne wade se
Sakshi Tripathi
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
हे! ज्ञानदायनी
हे! ज्ञानदायनी
Satish Srijan
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
Loading...