Sep 29, 2016 · 1 min read

चौपाई

“चौपाई”

बाबा शिव शंभू सैलानी, कीरति महिमा अवघड़ दानी
बाजत डमरू डम कैलाशा, राग-विराग अटल बर्फानी॥-1

स्वर चौदह चौरासी योनी, लिखा ललाट मिटे कत होनी
सत्य सती धरि रूप बहूता, को सके रोक यज्ञ अनहोनी॥-2

चौदह वर्ष बिपिन वनवासा, लक्ष्मण राम सिया विश्वासा
रावण कुंभकरण दुर्वाषा, अहम कोप निद्रा रुध साँसा॥-3

खड़ा हिमालय साधू संगा, कलरव साधक योग विहंगा
मान सरोवर निश्छल गंगा, नन्दन नंदी बमबम भंगा॥-4

माँ जगदंबे सिंह सवारी, रूप कालिका दैत्य संघारी
विनती गौतम कर-कर जोरी, पूत कपूत क्षमहू महतारी॥-5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

211 Views
You may also like:
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
बुआ आई
राजेश 'ललित'
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
शायद...
Dr. Alpa H.
हे गुरू।
Anamika Singh
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
kamal purohit
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H.
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
Loading...