Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2016 · 1 min read

चौपाई

जीवन अपना फूलों-सा है
जीना लेकिन शूलों-सा है।
जो भी शूलों पर है चलता
जीवन में फूलों-सा खिलता।।

Language: Hindi
426 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bhaurao Mahant
View all
You may also like:
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
हो नहीं जब पा रहे हैं
हो नहीं जब पा रहे हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
Basant Bhagawan Roy
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
Phool gufran
राम से बड़ा राम का नाम
राम से बड़ा राम का नाम
Anil chobisa
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जंगल के दावेदार
जंगल के दावेदार
Shekhar Chandra Mitra
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
दाना
दाना
Satish Srijan
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रेम सुखद एहसास।
प्रेम सुखद एहसास।
Anil Mishra Prahari
अहा!नव सृजन की भोर है
अहा!नव सृजन की भोर है
नूरफातिमा खातून नूरी
यहाँ सब बहर में हैं
यहाँ सब बहर में हैं
Suryakant Dwivedi
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
है स्वर्ग यहीं
है स्वर्ग यहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh Manu
घास को बिछौना बना कर तो देखो
घास को बिछौना बना कर तो देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...