Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम

चौकड़िया छंद प्रमुख नियम :-
1- चौकड़िया छंद में 16 – 12 मात्रा विधान में लिखा जाता है
2- चौकड़िया छंद के प्रथम चरण का प्रारंभ चौकल से ही प्रारंभ होगा (जगण 121 छोड़कर ) व 16 की यति की तुकांत चरणांत से मिलाई जाएगी |
व हर चरण में यति व चरणांत चौकल से ही किया जाता है(रगण 212 जगण 121 तगण 221 )
3 – चौकड़िया छंद चार पद(चरण) में ही लिखा जाता है , जिसकी पदांत तुकातें मिलाई जाती है। लेकिन आजकल कुछ कवि 5,6,7,8 आदि कड़ियों में भी लिखते हैं जिन्हें पंचकड़ियां,छहकडियां,अठकडियां आदि नाम से भी जाना जाता है।
4–प्रथम पद के 16 मात्रा की चौकल यति भी तुकांत में शामिल होती है।
5– अंतिम पद में कवि अपने नाम की छाप (तखल्लुस) लिखता है। –

उदाहरण :-
बुंदेली चौकडि़या -“पानी”*
*****

बिकबै, दूध भाव से पानी, नशलें नयी नशानी।
गैया कौ बौ दूध बताबै, करत सदां बेमानी।।
पानी दैकै हाथ बना रय,चतुर बढ़े रमजानी।
आय मिलौनी, कहै निपनिया,भइ राना’ हैरानी।।
***
-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी”,टीकमगढ़'(मप्र)

***

प्रस्तुति- #राजीव_नामदेव “#राना_लिधौरी” #टीकमगढ़
संपादक “#आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘#अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष #वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
#rajeev_namdeo_rana_lidhori
#jai_bundeli_sahitya_samoh_tikamgarh
#जय_बुंदेली_साहित्य_समूह

2 Likes · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
Ravi Prakash
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
बसंत
बसंत
manjula chauhan
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
📍बस यूँ ही📍
📍बस यूँ ही📍
Dr Manju Saini
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कौर दो कौर की भूख थी
कौर दो कौर की भूख थी
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
3196.*पूर्णिका*
3196.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
Loading...