Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2018 · 1 min read

चोरी

मेरी,भी एक चोरी हुई,
बहुत नही,थोडी हुई,
रहते थे,हम आर्यनगर,
बच्चे,पढते थे शहर,
गये गांव,थे हम अपने,
कल्पना नही कि थी,चोरी कि सपने में
लौटे तो,देखा चोरी हो गयी,
चोरी हुआ गैस सिलेण्डर,और रेगुलेटर,
कुछ नकदी, कुछ बर्तन,व प्रेसर कुकर,
नाग देवता, को साथ लेकर,
मेरे ही बैग में वह भर कर
हो गये वह रफु चक्कर,
ऐसी मेरी चोरी हो गयी,
कमरे का हाल कैसे बयां करुं,
बिखरा था सामान,कहाँ पांव धरुं,
बच्चे सहमे सहमे से,पत्नी थी हतप्रभ,
मै भी,विस्मृत सा,अब क्या करुं,
गया पडोश मे यह कहने को,
मेरे घर में,चोरी हो गयी,
कछ पडोषी,और ईष्ट मित्र,
हो गये,घर में मेरे एकत्र,
फिर गये हम मिल कर चौकी पर,
कहा,साहब,चोरी हो गयी,
दरोगा बोले यह क्या कहते हो,
यहाँ,कहाँ पर तुम रहते हो,
कब कहाँ,और कैसे हो गयी,
क्यों,नही थे तुम घर पर,
बतला के नही गये ,तुम हमें,व पडोष पर,
और ,अब कहते हो,चोरी हो गयी,
मैने कहा,जी हाँ,चोरी हो गयी,
बहुत नही,पर थोडी सी हो गयी,
हम गये थे गांव अपने में,
नही सोचा था यह सपने में
लौट के आये,तो देखा,
चोरी हो गयी, रपट लिख लो दरोगा जी,
मेरी भी, एक चोरी हो गयी।

Language: Hindi
1 Comment · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jaikrishan Uniyal
View all
You may also like:
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
"बैठे हैं महफ़िल में इसी आस में वो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
*दान: छह दोहे*
*दान: छह दोहे*
Ravi Prakash
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
राम की रहमत
राम की रहमत
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
sushil sarna
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शुरुआत
शुरुआत
इंजी. संजय श्रीवास्तव
........?
........?
शेखर सिंह
जन्मदिन तुम्हारा!
जन्मदिन तुम्हारा!
bhandari lokesh
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
शीर्षक – रेल्वे फाटक
शीर्षक – रेल्वे फाटक
Sonam Puneet Dubey
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...