Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने
मुझ को देर रात तक,सोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

इक दर्द सीने में उठ – उठ के , सिसकियाँ भरता रहा
मुझ को बस जी भर के,रोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

कहाँ जाये अब ये गमें – दिल ले कर लोग ढूँढ लेते है
शहर की भीड़ में मुझे,खोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

सिमट के रह गई खामोशियाँ सब इक आहे – दर्द में,
पलकों का दामन , भिगोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

सहरा की तरह बंजर – बंजर है , भीतर से प्यासे है
कागज़ पे अश्क़ो को बोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

जी में जी आता और साँस में साँस भी आती रोते तो
आँसू रडकते रहे मगर रोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

पकड़ लिए हाथ मेरे रोते हुये कल कागज की रूह ने
मुझे क़लम को लहू में,डुबोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

कर लेता ख़ुदकुशी “पुरव” कभी ना कभी तंग आके
बस तुझसे खफा कभी,होने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
■ ये भी खूब रही....!!
■ ये भी खूब रही....!!
*Author प्रणय प्रभात*
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
भूखे पेट न सोए कोई ।
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
Er. Sanjay Shrivastava
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
Loading...