Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने
मुझ को देर रात तक,सोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

इक दर्द सीने में उठ – उठ के , सिसकियाँ भरता रहा
मुझ को बस जी भर के,रोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

कहाँ जाये अब ये गमें – दिल ले कर लोग ढूँढ लेते है
शहर की भीड़ में मुझे,खोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

सिमट के रह गई खामोशियाँ सब इक आहे – दर्द में,
पलकों का दामन , भिगोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

सहरा की तरह बंजर – बंजर है , भीतर से प्यासे है
कागज़ पे अश्क़ो को बोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

जी में जी आता और साँस में साँस भी आती रोते तो
आँसू रडकते रहे मगर रोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

पकड़ लिए हाथ मेरे रोते हुये कल कागज की रूह ने
मुझे क़लम को लहू में,डुबोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

कर लेता ख़ुदकुशी “पुरव” कभी ना कभी तंग आके
बस तुझसे खफा कभी,होने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

262 Views
You may also like:
पावस
लक्ष्मी सिंह
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक बावली सी लड़की
Faza Saaz
*किसी को मिल गई पायल, तो फिर कंगन नहीं मिलता...
Ravi Prakash
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
ज्ञान के प्रकाश सी सुबोध मातृभाष री।
Neelam Sharma
जड़त्व
Shyam Sundar Subramanian
भूख
Sushil chauhan
यादों से छुटकारा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
निकम्मे नेता
Shekhar Chandra Mitra
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
पिता
Rajiv Vishal
लगा हूँ...
Sandeep Albela
आँखों में आँसू लेकर सोया करते हो
Gouri tiwari
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
“ARBITRARY ACTING ON THE WORLD THEATRE “
DrLakshman Jha Parimal
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
एक सोच ऐसी रखों जो बदल दे ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
✍️चाँद में रोटी✍️
'अशांत' शेखर
Loading...