Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 2 min read

चूहे से सीख

चूहे से सीख

बहुत पुरानी बात है । एक घर में शादी थी । उस घर की चार औरतें खेतों में शाम को शौचादि के लिए जा रही थी । सभी औरतें आपस में बातें कर रही थी । और कह रही थी कि अरी बहनों आज हमारे घर में शादी है परन्तु गीत तो हमें आते ही नही । तभी उनमें से एक औरत की नजर एक चूहे पर गई । वह चूहा बिल खोद रहा था । उसको देखकर वह औरत कहने लगी-
मैनें तो गीत सीख लिया । खुदक-खुदक क्या खोदा ।
यह सुनकर वह चूहा चुपचाल बैठ गया । यह देखकर दूसरी औरत कहने लगी-बहनों मैंने भी गीत सीख लिया और गाने लगी -चुपक-चाला क्यों बैठा ।
यह सुनकर वह चूहा धीरे-धीरे चलने लगा । उसको देखकर तीसरी औरत कहने लगी, मैंने भी गीत सीख लिया और गाने लगी -रूघक-रूघक कहां चला ।
यह सुनकर वह चूहा जोर-जोर से दौड़ने लगा । यह देखकर चौथी औरत कहने लगी, बहनों मैंने भी गीत सीख लिया- पटक-पछाड़, पटक पछाड़।
ये गीत सीखकर चारों घर वापिस आ गई । घर आने पर चारों ने शाम तक घर का काम किया । और शादी की तैयारियां की । उसके बाद शाम को आई गीत गाने की बारी । शाम को उनके घर के पिछवाड़े से चोरों ने सेंध लगा रखी थी । और पिछे से घर की दीवार की ईंटें निकालने लगे ।
ईधर वे औरतें अपना गीत शुरू करने लगी । जब चोरों ने दीवार को खोदना शुरू किया तो उन औरतों ने अपने गीत की शुरूआत की । पहली और गाने लगी -खुदक-खुदक क्या खोदा ।
यह सुनकर चोर चुपचाप बैठ गये । अब दूसरी की बारी थी । वह अपना गीत गाने लगी । और कहने लगी – चुपक-चाला क्यों बैठा ।
चोरों ने सोचा कि ये तो हमें देख रही हैं और वो चारों चोर चुपचाप वहां से चलने लगे । अब तीसरी की बारी थी । अब वह अपना गीत गाने लगी -रूघक-रूघक कहां चला ।
यह सुनकर चारों चोर वहां से भाग लिये । अब चौथी ने भी अपना गीत गा दिया । पटक-पछाड़, पटक पछाड़।
इस प्रकार से उनके से चूहे से सीखे गये गीत ने उनके घर चोरी होने से बचा लिया ।
समाप्त ।

Language: Hindi
244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
वो जहां
वो जहां
हिमांशु Kulshrestha
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
'अशांत' शेखर
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
देश अनेक
देश अनेक
Santosh Shrivastava
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
*वसंत 【कुंडलिया】*
*वसंत 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ चिंताजनक
■ चिंताजनक
*Author प्रणय प्रभात*
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
तारों का झूमर
तारों का झूमर
Dr. Seema Varma
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...