Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

चुभे खार सोना गँवारा किया

चुभे खार सोना गँवारा किया
हुआ कष्ट लेकिन ग़ुज़ारा किया
रहे भूख से बिलबिलाते मगर
न शिकवा किसीसे ख़ुदारा किया
हमीं काम आये थे जिनके कभी
उन्होंने ही पहले किनारा किया
सहारा दिया था जिन्हें कल तलक
उन्होंने ही क्यों बेसहारा किया
तिरे दर पे पहले भी ठोकर लगी
कि रुस्वा तुम्हीं ने दुबारा किया

—महावीर उत्तरांचली

1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
"दिमागी गुलामी"
Dr. Kishan tandon kranti
आम की गुठली
आम की गुठली
Seema gupta,Alwar
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
चिंपू गधे की समझदारी - कहानी
चिंपू गधे की समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
Prapancha mahila mathru dinotsavam
Prapancha mahila mathru dinotsavam
jayanth kaweeshwar
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
दिल के दरवाज़े
दिल के दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुन्दरता।
सुन्दरता।
Anil Mishra Prahari
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
समय भी दो थोड़ा
समय भी दो थोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
परिवार होना चाहिए
परिवार होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
Loading...