Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2023 · 1 min read

फटेहाल में छोड़ा…….

ज़िन्दगी की बहार ने मुझे फटेहाल में छोड़ा ।।।।।।।।।। ज़ख्मों की परछाईं ने मुझे किस हाल में छोड़ा ।।।।।।।। मैं बिलखता रहा साथ मेरा बहार ने छोड़ा ।।।।।।।।।।। तुम भी छोड़ गए जब दामन ने बारात में छोड़ा।।।।।।। तुम ने जोड़ी बना ली मुझे किस किरदार में छोड़ा ।।।। उम्र भर तड़पता रहूंगा मुझे गमे बाजार में छोड़ा।।।।।। चाहकर भी भूले नहीं उसने हर हाल में छोड़ा।।।।।।।। क्या कहूं मैं रोता रहा उसने गली गुमनाम में छोड़ा।।।। ऐसी क्या खता हुई जो तूने इस मुकाम पे छोड़ा।।।।।। सुशील कुमार सिंह “प्रभात”

Language: Hindi
1 Like · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
कागजी फूलों से
कागजी फूलों से
Satish Srijan
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
शक्कर की माटी
शक्कर की माटी
विजय कुमार नामदेव
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
■ प्रसंगवश :-
■ प्रसंगवश :-
*Author प्रणय प्रभात*
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"शब्दों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
2715.*पूर्णिका*
2715.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...