Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2017 · 1 min read

चुनाव

एक गीतिका….

शीर्षक  –  चुनाव

चुनावों के बहाने से हमें नेता लुभाते हैं।
दिखा मीठे सपन सबको गरीबो को पटाते हैं।1

न आये याद वो जनता विगत के पांच बरसों में।
बने  बरसात  के  मेंढक  चुनावों  में  टर्राते  हैं।2

किये वादे अनेकों थे फकत वोटों की’ खातिर जो।
वही  वादे  इरादे  बाद  में  सब  भूल  जाते   हैं।।3

है आया आज वो मौक़ा सबक उनको सिखाने का।
वही नेता वो’ अभिनेता  बदल जो बाद जाते हैं।।4

उठो जागो अभी लो पहचान ताकत वोट की अपने।
करें  वादा  खिलाफ़ी  जो सबक  उनको सिखाते हैं।5

प्रवीण त्रिपाठी
19 फरवरी 2017

448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
"ऐसा क्यों होता है?"
Dr. Kishan tandon kranti
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
Ravi Prakash
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
बूझो तो जानें (मुक्तक)
बूझो तो जानें (मुक्तक)
पंकज कुमार कर्ण
'फौजी होना आसान नहीं होता
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
2628.पूर्णिका
2628.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
तुम  में  और  हम  में
तुम में और हम में
shabina. Naaz
साहित्य - संसार
साहित्य - संसार
Shivkumar Bilagrami
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
पूर्वार्थ
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
देश अनेक
देश अनेक
Santosh Shrivastava
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
Loading...