Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

चुनाव

पांच बछर के गुजरे ले ,
सुरता तुन्हर सताए लागथे।
खुर्सी दंउड के सपना म ,
अंतस मोर छटपटाए लागथे।।1।।

दिन बादर फेर आवत हे ,
हिसाब – किताब लगाय के ।
घर – घर पहुंच सेवा ,
हाल – चाल सोरियाय के ।।2।।

कहाँ कतना खर्चा – पानी ,
कतना मिलही वोट ।
भर भर के लेवना कस बानी ,
लिख रखे हौं अइसे नोट ।।3।।

कांही उदिम होवय मोर ,
मगन होके करहूँ ।
अब ओनली फुल टाइम ,
जन सेवा करहुँ ।।4।।

तुन्हर आशीर्वाद बने रही त ,
परम पद म चढ़हूं ।
उपर निचे नई पुरहि ,
टेबुल के नीचे ले धरहू ।।5।।

अब फैसला तुन्हर हांथ स्वामी ,
मैं तो भिखारी तांव ।
धरम संकट के बेरा पड़गे,
तुम्हीं कर दौ मोर चुनाव ।।6।।

हर मन के बात पता हे ,
सबके सपना पूरा करे के वादा।
लोक लुभावन मेनिफेस्टो हे ,
मोर चरित्र हे सबले सादा ।।7।।

कोन उदीम करव बता दौ ,
फेर लालटेन गाड़ी घुमाव ।
कर्मठ – जुझारू – शिक्षित ,
योग्य प्रत्याशी हे मोर नाव ।।8।।

* लखन यादव (गंवार)*
गांव बरबसपुर (बेमेतरा) 36गढ़

Language: Hindi
2 Likes · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
Sakhawat Jisan
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
#अबोध_जिज्ञासा
#अबोध_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
समता उसके रूप की, मिले कहीं न अन्य।
समता उसके रूप की, मिले कहीं न अन्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
दोहा - शीत
दोहा - शीत
sushil sarna
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
मियाद
मियाद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
प्रणय 4
प्रणय 4
Ankita Patel
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
Loading...