Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

चुनाव का मौसम

चुनाव का मौसम

कहाँ तो उन्हें पहले भरपेट खाने को नहीं मिलता था और अगर मिलता भी, तो तब, जब वे भूख से अधमरे हो चुके होते। मां और बापू रात के आठ-साढ़े आठ बजे तक काम से लौटते। बापू तो अपनी कमाई की पूरी पी जाते, पर मां अपनी कमाई से आटा, सब्जी वगैरह खाने का सामान लेकर आती, खाना बनाती, तब जाकर रात के नौ-साढे़ नौ बजे तक उन्हें खाने को कुछ मिलता। पर पिछले एक हफ्ते से वह नौ-दस साल का बच्चा देख रहा था कि मां रोज पके-पकाए खाने का पैकेट लेकर आ रही है। बापू भी एकदम टुन्न। वे भी अपने पैसे अम्मा को दे दे रहे हैं। जिज्ञासावश उसने एक दिन अपनी मां से पूछ ही लिया, “मां, क्या अब तुम रोज हमारे लिए ऐसे अच्छे खाना लाओगी ?”
मां का चेहरा उतर गया। बोली, “नहीं बेटा, 4-6 दिन और ही मिलेगा। चुनाव खत्म होने के बाद ये भी मिलना बंद हो जाएगा।”
बच्चे ने बड़ी मासूमियत से पूछा, “मां, ये चुनाव बार-बार क्यों नहीं होते।”
“चुपचाप खा ले बेटा, अभी जो मिल रहा है, वही हमारे किस्मत की है।” किसी तरह वह बोल गई।
बच्चे को मां की बात समझ में नहीं आई। वह अच्छे बच्चों की तरह चुपचाप खाने लगा।
मां आसमान की ओर निहार रही थी।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
तपते सूरज से यारी है,
तपते सूरज से यारी है,
Satish Srijan
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
गुमनाम 'बाबा'
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
शायर की मोहब्बत
शायर की मोहब्बत
Madhuyanka Raj
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Introduction
Introduction
Adha Deshwal
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
Loading...