Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

*चुनावी कुंडलिया*

चुनावी कुंडलिया
🍃🍃🍂🍂🍃🍃
झोली में जिनकी टिकट, उनकी होली आज (कुंडलिया)
________________________
झोली में जिनकी टिकट, उनकी होली आज
झूम रहे मस्ती-भरे, लगा मिल गया राज
लगा मिल गया राज, रंग हॅंसकर लगवाते
उनके चमचे खूब, गली टोली में जाते
कहते रवि कविराय, गई उन सब की होली
कटा टिकट से नाम, रही खाली ही झोली
🍂🍂🍂🍂🍂🪴🪴
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं" - यमुना
Bindesh kumar jha
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
*दो दिन फूल खिला डाली पर, मुस्काकर मुरझाया (गीत)*
Ravi Prakash
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
शेखर सिंह
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
DrLakshman Jha Parimal
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
Neeraj Agarwal
चार यार
चार यार
Bodhisatva kastooriya
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
नियम
नियम
Ajay Mishra
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपना सब संसार
अपना सब संसार
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इंतजार युग बीत रहा
इंतजार युग बीत रहा
Sandeep Pande
भूलना..
भूलना..
हिमांशु Kulshrestha
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
Loading...