Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

चिड़िया रानी ………..

चिड़िया रानी ………..

सुबह सवेरे वो आती है
मुझको रोज जगाती है
सुर में जब वो गाती है
मुझको बहुत लुभाती है

अजब गजब उसकी भाषा
अजब गज़ब उसकी बोली है
दिखने में लगती बड़ी चंचल
पर आदत से वो बड़ी भोली है ।।

बाहे फैलाकर मुझे बुलाती है
और गीत ख़ुशी के गाती है
सुनकर उसकी मधुर पुकार
दिल की गिरह खुल जाती है ।।

रास रसीली, कोमल गात
मुरझा जाये वो लगते हाथ
इशारो में होती अपनी बात
खूब भाता हमे दूजे का साथ ।।

उसके आनी से आँगन चहके
घर का कोना। कोना महके
तन मन मंगलमय हो जाता
संग में उसके कुछ पल रहके ।।

नीरस ह्रदय की वो उमंग है
मेरे जीवन में भरती रंग है
जिंदगी की एक कड़ी बनके
सदा चलती वो मेरे संग है ।।

तुम कहते हो तो नाम बता दूँ
उसके रहने का स्थान बता दूँ
न समझो उसे कोई पहेली
सबसे उसका परिचय करा दूँ ।।

नन्ही सी वो बड़ी प्यारी सी है
सुनहरे रंग की चिड़िया उसका नाम !!
नित्य भोर में मिलने आती है
दे जाती है मुझे निश दिन जीने का आयाम !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _________@

Language: Hindi
2 Comments · 422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
Ravi Prakash
त्याग करने वाला
त्याग करने वाला
Buddha Prakash
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Sakshi Tripathi
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
23/42.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका* 🌷गाथे मीर ददरिया🌷
23/42.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका* 🌷गाथे मीर ददरिया🌷
Dr.Khedu Bharti
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
'क्या कहता है दिल'
'क्या कहता है दिल'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
Loading...