Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2023 · 1 min read

चिल्हर

चिल्हर

बस में सफर करते हुए कण्डक्टर ने मुझसे पूछा- ‘‘कहाँ का टिकट दूँ ?’’
‘‘सोहनपुर का” मैंने कहा और उसकी ओर दस-दस के तीन नोट बढ़ा दिए।’’
उसने अट्ठाइस रुपए के टिकिट मेरी ओर बढ़ा दिए और आगे बढ़ गया। मैंने टोका- ‘‘मेरे बाकी के दो रुपए भी तो दीजिए।’’
‘‘चिल्लर होती, तो दे न देता। आप लोगों को चिल्हर पैसे लेकर चलना चाहिए।’’
मुझे लगा कि मैंने बहुत बड़ी गलती कर दी। मुझे खुद पर शर्म भी आई।
थोड़ी देर बाद एक नई सवारी ने बस में प्रवेश किया तो टिकट को लेकर कण्डक्टर की ऊँची आवाज सुनाई दी- ‘‘एक रुपए और निकालो।’’
‘‘माई-बाप ! मेरे पास अब एक भी पैसा नहीं है।’’ उस मैले कुचैले कपड़े वाले ने कहा।
‘‘देखो नाटकबाजी नहीं चलेगी। एक रुपए दे दोगे तो ठीक है, नहीं तो मोहनपुर की जगह सोहनपुर में ही उतार दिए जाओगे। यह बस है खैरात का अड्डा नहीं।’’
कण्डक्टर ने फरमान जारी कर दिया।
डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
3547.💐 *पूर्णिका* 💐
3547.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
"कैसे कहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
माँ
माँ
Anju
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सफलता
सफलता
Raju Gajbhiye
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
Loading...