Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

चिला रोटी

परदेसिया बाबु बसे कोसन म,
रंग बिरंगी पोता गे होही ।

हहो रद्दा- बाट के ठेला खजेना म ,
मुंह उंखरो चिकना गे हाेही ।

रंग- रंग के तेलपरा फोरन म,
जीव तुन्हरो असकटा गे हाेहि ।

अऊ मेहा अगोरा म

भिनसरहा के गोबर कचरा ,
सरा सीटका के सिसरी लगावत हौ ।

काली के आही सुनेव जोही ,
तबले अपने अपन अकचकावत हौ ।

माटी के चूल्हा गोबर के छेना ,
डोली खार ले लकड़ी लाने हौ ।

सितका कुरिया के जांता म ,
कनकी पिसान गारे हौ ।

कोनो दू मिनट वाला नूडल कहां..?
तोर बर चिला रोटी रांधे हौ ।

सिलबट्टी म चटनी पिसहुं ,
कोला बारी ले चिरपोटी लाने हौ ।

बांचे पीसान के स्वागत बर तोर ,
दुवारी म चउक पारे हौ ।

••लखन यादव (गंवार)••
गांव बरबसपुर, तह. नवागढ़ , बेमेतरा(३६गढ़)

Language: Chhattisgarhi
1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शीश झुकाएं
शीश झुकाएं
surenderpal vaidya
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"𝗜 𝗵𝗮𝘃𝗲 𝗻𝗼 𝘁𝗶𝗺𝗲 𝗳𝗼𝗿 𝗹𝗼𝘃𝗲."
पूर्वार्थ
■ ये डाल-डाल, वो पात-पात। सब पंछी इक डाल के।।
■ ये डाल-डाल, वो पात-पात। सब पंछी इक डाल के।।
*प्रणय प्रभात*
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
हमेशा एक स्त्री उम्र से नहीं
शेखर सिंह
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
हरषे धरती बरसे मेघा...
हरषे धरती बरसे मेघा...
Harminder Kaur
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इश्क की कीमत
इश्क की कीमत
Mangilal 713
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
#drarunkumarshastri♥️❤️
#drarunkumarshastri♥️❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
Loading...