Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

चिराग आया

#दिनांक:-7/7/2024
#शीर्षक:-चिराग आया

जन्म उत्सव आपका आया ,
घर पर पूजा आपको भाया।
मेरी भी उम्र लग जाए आपको,
मेरी खुशियो की सौगात लाया।

आप मेरी शान और पहचान बनो,
यशवान धनवान आप महान बनो।
जीवन जीवंत -अनुकरणीय रहे,
देश के यशस्वी वीर जवान बनो।

तुम जो आये घर का चिराग आया
परिवार में खुशी उल्लास लौट आया
तुम जियो हजार वर्ष प्रार्थना है प्रभु से,
2024 तीसरा जन्म दिन लाया।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
18 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
मछली रानी
मछली रानी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जब अकेला निकल गया मैं दुनियादारी देखने,
जब अकेला निकल गया मैं दुनियादारी देखने,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
Phool gufran
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
"वो प्रेमिका बन जाती है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
Slok maurya "umang"
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
बातों की कोई उम्र नहीं होती
बातों की कोई उम्र नहीं होती
Meera Thakur
सूली का दर्द बेहतर
सूली का दर्द बेहतर
Atul "Krishn"
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
राम कृष्ण हरि
राम कृष्ण हरि
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
दीवाना दिल
दीवाना दिल
Dipak Kumar "Girja"
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
■ आखिरकार ■
■ आखिरकार ■
*प्रणय प्रभात*
Loading...