Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 2 min read

चिड़िया!

(एक दिन उड़ जाऊंगी)

चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
मैं आसमा समेट लाऊँगी l
बाहों को फ़ैला के मैं अपनी,
बाबा के गले से लिपट जाऊंगी l
चिड़िया हूँ ,मैं अंगने की तेरे,
चू- चू करती फुर्र होजाऊंगी,
तुम देखना मेरी राह,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l

चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l

बाबा तुम क्यों कहते पराया,
पराए से इतना क्यों स्नेह लगाया,
मैं पराई अपने देश को जाऊंगी,
वहाँ तो नहीं ना पराई कह लाऊँगी l
चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l

संसार बना लूगी नया,
नया- नया होगा मेरा जहां,
याद पर मुझे तेरी ही सताएंगी l
तुझसे भी मेरी बिदाई सही तो ना जाएगी l

बाबा तुम क्यों डरते हो इतना,
मैं अब हूँ; सयानी चिड़िया,
घोसला मैं स्वयं बनाऊँगी l
दाना पानी भी ढुंढ़ ,मैं लाऊँगी l
परेशानी की बात नहीं,
मैं उस घर को अपना बनाऊँगी l
चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l

बाबा तुम मुझे भूल ना जाना,
मैं आऊँ तो लड्डू ले आना,
तेल मेरे माथे पर लगाना,
फ़िर परियों की कहानी सुनना,
बाबा तुम मुझे भूल ना जाना l
नादान चिड़िया हूँ, लड़खड़ा अगर जाऊंगी
बाहों को फ़ैला के मैं अपनी,
बाबा के गले से लिपट जाऊंगी l

चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
चू चू करती फुर्र होजाऊंगी,
तुम देखना मेरी राह,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l

चिड़िया हूँ ,एक दिन उड़ जाऊंगी,
तेरे हाथों से चुगने मैं आऊँगी l
..
..सेजल गोस्वामी..

Language: Hindi
123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
दोस्ती....
दोस्ती....
Harminder Kaur
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्षणभंगुर
क्षणभंगुर
Vivek Pandey
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहारें तो आज भी आती हैं
बहारें तो आज भी आती हैं
Ritu Asooja
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*Author प्रणय प्रभात*
अजीब बात है
अजीब बात है
umesh mehra
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
शेखर सिंह
भोर
भोर
Kanchan Khanna
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
Loading...