Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

चिड़िया की बस्ती

देखी है मैंने आज
चिड़िया की एक बस्ती
जानोगे जब चिड़िया को
सीखोगे जीवन में मस्ती

है जीवन तीन सालों का बस
सीख सौ सालों की मिलती है
देखती है प्यार चिड़ियों का जब
आंखें धन्य महसूस करती है

है नहीं कोई फिक्र उसको
वो वर्तमान में ही जीती है
नहीं इंतज़ार उसको बारिश का
वो ओस की बूंदें पीती है

कोई नहीं कहता उसको
वो खुद ही आशियाना बनाती है
जोड़कर तिनका तिनका
अपना घर फिर वो बसाती है

है नन्हें नन्हें चूज़े उसके
जिन्होंने अभी आंखें खोली नहीं है
मां दाने खिला रही है उनको
चाहे उन्होंने भूख बोली नहीं है

बचाना है अपने बच्चों को उसको
जाने कितने शिकारी ढूंढ रहे है जिन्हें
इसलिए बनाती है घोंसला ऐसी जगह
जहां दुश्मनों से बचा सके वो उन्हें

टूट जाए कभी घरोंधा
विलाप नहीं करती है चिड़िया
नया घर बनाने में जुट जाती है
हौंसला कभी हारती नहीं है चिड़िया।

10 Likes · 1 Comment · 4298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
Shekhar Chandra Mitra
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
पूर्वार्थ
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
Ms.Ankit Halke jha
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
*पिता (सात दोहे )*
*पिता (सात दोहे )*
Ravi Prakash
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
DrLakshman Jha Parimal
◆व्यक्तित्व◆
◆व्यक्तित्व◆
*Author प्रणय प्रभात*
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
वास्तविक मौज
वास्तविक मौज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
Shubham Pandey (S P)
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
करने लगा मैं ऐसी बचत
करने लगा मैं ऐसी बचत
gurudeenverma198
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
Loading...