Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

चिट्ठी

कितनी सच्ची थी चिठ्ठी
कितनी अच्छी थी चिठ्ठी ।
सुख- दुख मेरे ले जाती थी
मन की अपने कह जाती थी ,
मेरे अपनों की गाथा
कुछ ही शब्दों में दे जाती थी ।।
रिश्तों का अहसास थी चिठ्ठी
कितनों का विश्वास थी चिठ्ठी ,
एक- दूजे से बाँधने वाली
कागज की एक डोर थी चिठ्ठी ।
संबंध मधुर बनाती थी
दूरियो को मिटाती थी ,
बिछुड़ जाते थे जो साथी
उनको वो मिलवाती थी ,
जाने कैसे पीछे रह गयी
फेसबुक और ई- मेल से चिट्ठी ।
आज चिठ्ठी इतिहास हो गयी
बीते दिनों की बात हो गयी ,
जीवन के सारे संस्कारों में
चिट्ठी ही बुलावा होती थी ;
पर अब न ही चिठ्ठी आती है
अब न ही चिठ्ठी जाती है ,
व्हाट्सएप के लघु संदेशों में
बातें सारी हो जाती हैं ।
बस ऐसे ही वो गुम हो गयी
सबकी प्यारी – प्यारी चिठ्ठी ।
कितनी सच्ची थी चिठ्ठी
कितनी अच्छी थी चिट्ठी ।।

डॉ रीता
आया नगर, नई दिल्ली- 47

Language: Hindi
Tag: कविता
203 Views
You may also like:
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
पिता
Santoshi devi
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आया आषाढ़
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
Feel The Love
Buddha Prakash
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुढ़ापा
Alok Vaid Azad
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
" पुस्तक : एक राष्ट्र एक जन "
Ravi Prakash
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सृष्टि रचयिता यंत्र अभियंता हो आप
Chaudhary Sonal
ईद अल अजहा
Awadhesh Saxena
अमृत महोत्सव मनायेंगे
नूरफातिमा खातून नूरी
आस्तीक भाग -तीन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Sahityapedia
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
ऐसा है संविधान हमारा
gurudeenverma198
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
✍️कमाल ये है...✍️
'अशांत' शेखर
# मां ...
Chinta netam " मन "
गुणगान क्यों
spshukla09179
ममता का यह कैसा परिवर्तन
Anamika Singh
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
एक कमरे की जिन्दगी!!!
Dr. Nisha Mathur
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
Loading...