Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

चाहा तो है

मैं किसके सपने बुन-बुन कर
खुद को धन्य समझ बैठा था।
पता चला है आज वो मुझसे,
बचपन से बैठा ऐंठा था।
मैं अभिमानी, ओ!अज्ञानी
किसको जीवन समझ लिया था।
मधुरस के चक्कर में आकर
विष जीवन में घोल दिया था।
पर जो भी था, निज जुनून वह
तुमको पाने की अभिलाषा।
जिसकी चाहत से जगती थी
जैसे इस जीवन में आशा
पर इतना है बहुत संगिनी!
प्रेम उपजाया तो है।
टूट-टाट भी टूट-टूटकर
मैंने तुमको चाहा तो है।

विजय बेशर्म 9424750038

Language: Hindi
512 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
क्यों नहीं आ रहे हो
क्यों नहीं आ रहे हो
surenderpal vaidya
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
Vijay kumar Pandey
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
धमकियाँ देना काम है उनका,
धमकियाँ देना काम है उनका,
Dr. Man Mohan Krishna
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
कमजोर से कमजोर स्त्री भी उस वक्त ताकतवर हो जाती है जब उसे,
कमजोर से कमजोर स्त्री भी उस वक्त ताकतवर हो जाती है जब उसे,
Ranjeet kumar patre
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
😊आज का सच😊
😊आज का सच😊
*प्रणय प्रभात*
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
VINOD CHAUHAN
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
Loading...