Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,

चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
शायद मेरे दर्द के हम ख्याल बहुत है..!!!
विशाल बाबू ..😞🖊🖊

393 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-159💐
💐प्रेम कौतुक-159💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
ना दे खलल अब मेरी जिंदगी में
ना दे खलल अब मेरी जिंदगी में
श्याम सिंह बिष्ट
#एक_विचार
#एक_विचार
*Author प्रणय प्रभात*
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
*फागुन चुलबुल आ गया 【कुंडलिया】*
*फागुन चुलबुल आ गया 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
"वट वृक्ष है पिता"
Ekta chitrangini
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
संविधान की मौलिकता
संविधान की मौलिकता
Shekhar Chandra Mitra
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
ऋतुराज (घनाक्षरी )
ऋतुराज (घनाक्षरी )
डॉक्टर रागिनी
Loading...