Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

चाहत

चाहनाएं बहुत रहीं जीवन में ..

कभी चाहा तारों भरे आसमान में
खेलना तारों के साथ

कभी चाहा चिड़ियों का हाथ पकड़
चलना हवाओं में

कभी चाहा रोक लूं भाग कर
डूबते सूरज को

कभी चाहा आखिरी लहर आने तक
चखते रहना समंदर का नमक

इन सारी असंभव चाहनाओं में
जो कुछ संभव रह गया
वो था मिलना
मेरा …
तुमसे ।।

Language: Hindi
1 Like · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
Monika Arora
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
मन की बुलंद
मन की बुलंद
Anamika Tiwari 'annpurna '
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
STAY SINGLE
STAY SINGLE
Saransh Singh 'Priyam'
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
Loading...