Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

चाहत ‘तुम्हारा’ नाम है, पर तुम्हें पाने की ‘तमन्ना’ मुझे हो

चाहत ‘तुम्हारा’ नाम है, पर तुम्हें पाने की ‘तमन्ना’ मुझे हो गयी है,
महबूबा हो तुम और हमें तुमसे ही मोहब्बत हो गयी है ।

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नज्म- नजर मिला
नज्म- नजर मिला
Awadhesh Singh
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
बहुत अहमियत होती है लोगों की
बहुत अहमियत होती है लोगों की
शिव प्रताप लोधी
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
What if...
What if...
R. H. SRIDEVI
"वो लॉक डाउन"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
चार दिन की जिंदगी
चार दिन की जिंदगी
Karuna Goswami
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
..
..
*प्रणय प्रभात*
Loading...