Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान

बधाई🇮🇳अभिनंदन🇮🇳
विकसित भारत का शंखनाद है।
यह क्षण अद्भुत है, अकल्पनीय है,अविस्मरणीय है।
आज भारत ने फिर दुनिया को दिखा दिया हमें पराजय स्वीकार नही हैं।
हम उठते हैं, खड़े होते हैं और फिर दौड़ते हैं।
हम विश्वगुरु हैं और वह करते हैं जो कोई नही कर सकता।
#चंद्रयान3 के विक्रम रोवर की चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफल लेंडिंग करने वाला आज हमारा भारत विश्व का पहला राष्ट्र है।
हम अद्वितीय है।
साइकिल से राकेट लेकर चलने वाला देश आज चांद पर खड़े होकर प्रतिनिधित्व कर रहा है।
भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी के वो शब्द कि “भारत कोई भूमि का टुकड़ा नही है,एक जीता-जागता राष्ट्रपुरुष है ।” को चरितार्थ करता हुआ हमारा देश स्वयं राष्ट्र को संदेश दे रहा है।

ISRO को समर्पण की पराकाष्ठा हेतु नमन ।
प्रत्येक देशवासी को प्रार्थना हेतु नमन ।
पी एम मोदी जी को संकल्प हेतु नमन।
✍️✍️✍️

Language: Hindi
106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
गोविंदा श्याम गोपाला
गोविंदा श्याम गोपाला
Bodhisatva kastooriya
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
2381.पूर्णिका
2381.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
(हमसफरी की तफरी)
(हमसफरी की तफरी)
Sangeeta Beniwal
दीवाना हूं मैं
दीवाना हूं मैं
Shekhar Chandra Mitra
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
'अशांत' शेखर
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
Ravi Prakash
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
आत्मनिर्भरता
आत्मनिर्भरता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्नाटक के मतदाता
कर्नाटक के मतदाता
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
Loading...