Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

चलो हो गयी दीवाली

चलो हो गयी दीवाली

दीवाली से पहले
सोशल मीडिया पर चीनी सामान का बहिष्कार की बातें करने बाले
काफी लोग
दीवाली पर
पहले से रखी लाइट्स का इस्तेमाल करते दिखे
ऑनलाइन शॉपिंग पर चीनी सामान खरीदने का लुत्फ़ लेते मिले
भले ही अपने नाते रश्तेदारों और पड़ोसियों से दिवाली पर बात न की हो
इस बार भी फेसबुक ट्विटर व्हाटप्पस पर खूब मेल लिखे
जिसके पास जितना पैसा था
या कहिये जितना दिखाबा कर सकता था
दिवाली के दिन उतनी अधिक खऱीदारी की
भले जरुरत हो या ना हो
पर्याबरण की चिंता में रात दिन एक करने बाले भी
दीवाली के दिन
आकाश को धुएं से भरने में भी पीछे नहीं रहे
घाटे में चलने बाली कुछ संस्थानों ने जैसे तैसे
अपने कर्मचारियों को बोनस दिया और
अपनी नाक बचाई
पोस्टमैन , माली , गैस सप्लायर ,धोबी ने
अपने अपने तरीकों से दिवाली की बधाई दी
मतलब जबरन धन बसूली की
छोटे बच्चों ने दीवाली के नाम पर
जमकर मस्ती की , पढ़ाई से मन चुराया
रक्त शर्करा से पीड़ित लोगों ने
दीवाली पर अपनी दबी इच्छा पूरी की
और
सबने
खूब दीवली मनाई
अपने अपने तरीके से
और
चैन की साँस ली
चलो हो गयी दीवाली

मदन मोहन सक्सेना

103 Views
You may also like:
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
प्रेम
Rashmi Sanjay
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
कब आओगे
dks.lhp
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
उसको बता दो।
Taj Mohammad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
मजहबे इस्लाम नही सिखाता।
Taj Mohammad
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
हिरण
Buddha Prakash
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
✍️कुछ यादों के पन्ने✍️
"अशांत" शेखर
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
Loading...